1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. देश के बड़े नेता कर रहे हैं मेरी चिंता , इसका मतलब मैं ठीक कर रहा हूं : Jayant Chaudhary

देश के बड़े नेता कर रहे हैं मेरी चिंता , इसका मतलब मैं ठीक कर रहा हूं : Jayant Chaudhary

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) को लेकर सूबे में सियासी घमासान तेज होता नजर आ रहा है। पश्चिमी यूपी में आरएलडी नेता जयंत चौधरी (RLD leader Jayant Choudhary) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) के बीच जुबानी जंग जारी है। बीजेपी (BJP) व समाजवादी पार्टी गठबंधन (Samajwadi Party Alliance) पर निशाना साधने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) को लेकर सूबे में सियासी घमासान तेज होता नजर आ रहा है। पश्चिमी यूपी में आरएलडी नेता जयंत चौधरी (RLD leader Jayant Choudhary) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) के बीच जुबानी जंग जारी है। बीजेपी (BJP) व समाजवादी पार्टी गठबंधन (Samajwadi Party Alliance) पर निशाना साधने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है। तो वहीं शनिवार को अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) की एकजुटता का उपहास उड़ाया था। इसके प्रतिउत्तर में जयंत चौधरी ने कहा कि देश के बड़े नेता मेरी चिंता कर रहे हैं। इसका मतलब मैं ठीक कर रहा हूं।

पढ़ें :- Maharashtra: दशहरा रैली में भाजपा और शिंदे पर जमकर बरसे उद्धव ठाकरे, कहा-गद्दार को गद्दार ही कहेंगे

पढ़ें :- Jammu and Kashmir: अमित शाह बोले-आतंकवाद को पूरी तरह से करेंगे खत्म, तीन परिवारों पर भी साधा निशाना

बीजेपी पर हमला करते हुए जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary)  ने कहा कि बीजेपी वाले मेरे कोई रिश्तेदार हैं, जो मैं उनकी मान लूं। मैंने विवेकपूर्ण और अपने लोगों के हितों को ध्यान में रखकर फैसला लिया है। भविष्य की और सकारात्मक राजनीति को देखते हुए मैंने फैसला लिया है। जिनसे मुकाबला है हमारा, वो निरंतर प्रयास कर रहे हैं कि हमारे बीच फूट पड़ जाए।

बता दें कि केंद्रीय गृह व सहकारिता मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) ने शनिवार को अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) की एकजुटता का उपहास उड़ाया है। उन्होंने कहा कि आजकल अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और जयंत साथ-साथ दिख रहे हैं, लेकिन यह सिर्फ वोटिंग तक का साथ है। अगर गलती से भी इनकी सरकार बन गई तो जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) जी फिर कहीं नहीं दिखेंगे। तब फिर से आजम खान (Aazam Khan) और अतीक अहमद (Ateek Ahmed) सामने आ जाएंगे। उन्होंने कहा कि यह इनके अखिलेश के टिकट बांटने से ही सबको साफ साफ समझ आ गया है।

 

अब पीएम मोदी संभालेंगे जाट लैंड की चुनावी बागडोर

लोकतंत्र में वोट की शक्ति के महत्व को समझाने के लिए कबीरदास का दोहा उद्धृत किया। कबीरा लोहा एक है, गढ़ने में है फेर, ताहि का बख्तर बने, ताहि की शमशेर। दोहे के माध्यम से उन्होंने साफ किया कि मतदाता का एक वोट माफिया राज से मुक्ति भी दिला सकता है और माफिया राज वापस भी ला सकता है।

पढ़ें :- Vijayadashami 2022 : गृह मंत्री अमित शाह  बोले-कश्मीर में मरेगा आतंकवाद का 'रावण' 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...