बड़ा कदम: चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सेना को मिली पूरी छूट!

indian army
बड़ा कदम: चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सेना को मिली पूरी छूट!

नई दिल्ली। चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सेना को पूरी छूट दे दी गयी है। चीनी सैनिकों को जवाब देने के लिए भारतीय सेना को तैयार रहने को कहा गया है। रविवार रक्षामंत्री राजना​थ सिंह ने सीडीएस बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख के साथ हाईलेवल मीटिंग की।

Big Move Indian Army Gets Complete Exemption To Give China A Befitting Reply :

सूत्रों की माने तो रक्षामंत्री की बैठक के बाद बताया गया है कि सुरक्षाबलों को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन की सेना के किसी भी प्रकार के आक्रामक रवैए से निपटने के लिए पूरी स्वतंत्रता दी गई है।सूत्रों ने कहा कि सेना को निर्देश दिया गया है कि वह जमीनी स्थिति के अनुसार खुद निर्णय लें। राजनाथ सिंह की यह बैठक उनके रूस दौरे से पहले हुई है।

इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है, क्योंकि चीन से बढ़े तनाव के बाद से सेना का हौसला बढ़ाए जाने की जरूरत थी। सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि शीर्ष सैन्य अधिकारियों को जमीनी सीमा, हवाई क्षेत्र और रणनीतिक समुद्री मार्गों में चीन की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं।

गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने धोखेबाजी से भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया था,​ जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। वहीं, जवाबी कार्रवाई में चीन के 43 सैनिकों के मारे जाने की सूचना थी। इसके साथ कई के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना थी।

नई दिल्ली। चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय सेना को पूरी छूट दे दी गयी है। चीनी सैनिकों को जवाब देने के लिए भारतीय सेना को तैयार रहने को कहा गया है। रविवार रक्षामंत्री राजना​थ सिंह ने सीडीएस बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख के साथ हाईलेवल मीटिंग की। सूत्रों की माने तो रक्षामंत्री की बैठक के बाद बताया गया है कि सुरक्षाबलों को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन की सेना के किसी भी प्रकार के आक्रामक रवैए से निपटने के लिए पूरी स्वतंत्रता दी गई है।सूत्रों ने कहा कि सेना को निर्देश दिया गया है कि वह जमीनी स्थिति के अनुसार खुद निर्णय लें। राजनाथ सिंह की यह बैठक उनके रूस दौरे से पहले हुई है। इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है, क्योंकि चीन से बढ़े तनाव के बाद से सेना का हौसला बढ़ाए जाने की जरूरत थी। सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि शीर्ष सैन्य अधिकारियों को जमीनी सीमा, हवाई क्षेत्र और रणनीतिक समुद्री मार्गों में चीन की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने धोखेबाजी से भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया था,​ जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। वहीं, जवाबी कार्रवाई में चीन के 43 सैनिकों के मारे जाने की सूचना थी। इसके साथ कई के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना थी।