आशुतोष के बाद अब आशीष खेतान ने भी दिया आम आदमी पार्टी से इस्तीफा

आशुतोष के बाद अब आशीष खेतान ने भी दिया आम आदमी पार्टी से इस्तीफा
आशुतोष के बाद अब आशीष खेतान ने भी दिया आम आदमी पार्टी से इस्तीफा

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब एक और अहम साथी आशीष खेतान ने एक्टिव पॉलिटिक्स से ब्रेक का ऐलान कर दिया है पूर्व पत्रकार और AAP नेता आशीष खेतान 2014 में नई दिल्ली लोकसभा से चुनाव लड़ चुके हैं और दिल्ली सरकार के दिल्ली डायलॉग कमिशन के उपाध्यक्ष रहे हैं।

Big Set Back For Aap After Ashutosh Ashish Khetan May Resign From Party :

लंबे समय से पार्टी के कामों में शामिल नहीं हो रहे थे। मगर अब वह वकालत के पेशे से जुड़ गए हैं। खबर है कि आशीष खेतान और आशुतोष दोनों ने 15 अगस्त को ही इस्तीफ़ा दे दिया।

आशीष खेतान पार्टी छोड़ने की इस खबर को ख़ारिज नहीं कर रहे बल्कि नज़रंदाज़ करने की बात कह रहे हैं और अपना ध्यान पूरी तरह लीगल प्रैक्टिस पर देने की बात कह रहे हैं। आशीष ने बुधवार को ट्वीट किया- मैं अभी पूरी तरह से लीगल प्रैक्टिस पर ध्यान दे रहा हूं और इस वक्त सक्रिय राजनीति में शामिल नहीं हूं।

रिपोर्ट के मुताबिक आशीष दोबारा नई दिल्ली लोकसभा से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन पार्टी इसके लिए तैयार नहीं है. पार्टी सूत्रों के मुताबिक नई दिल्ली सीट खाली पड़ी है। सीट कोई मुद्दा नहीं है। वैसे सूत्र बता रहे हैं कि खेतान इस्तीफ़ा दे या ना दें लेकिन फिलहाल वो वैसे भी पार्टी और राजनीति की बजाय लीगल प्रैक्टिस में लगे हैं।

इससे पहले पंजाब में पार्टी नेता सुखपाल खैरा को AAP ने नेता विपक्ष पद से हटाया तो लंबे विवाद के बाद खैरा समर्थित पार्टी खेमे ने खैरा पार्टी का पंजाब का प्रमुख घोषित कर दिया। इन सबसे पता चलता है कि लोकसभा चुनाव 2019 से पहले AAP अपने और अपनों से जूझ रही है।

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब एक और अहम साथी आशीष खेतान ने एक्टिव पॉलिटिक्स से ब्रेक का ऐलान कर दिया है पूर्व पत्रकार और AAP नेता आशीष खेतान 2014 में नई दिल्ली लोकसभा से चुनाव लड़ चुके हैं और दिल्ली सरकार के दिल्ली डायलॉग कमिशन के उपाध्यक्ष रहे हैं।लंबे समय से पार्टी के कामों में शामिल नहीं हो रहे थे। मगर अब वह वकालत के पेशे से जुड़ गए हैं। खबर है कि आशीष खेतान और आशुतोष दोनों ने 15 अगस्त को ही इस्तीफ़ा दे दिया।आशीष खेतान पार्टी छोड़ने की इस खबर को ख़ारिज नहीं कर रहे बल्कि नज़रंदाज़ करने की बात कह रहे हैं और अपना ध्यान पूरी तरह लीगल प्रैक्टिस पर देने की बात कह रहे हैं। आशीष ने बुधवार को ट्वीट किया- मैं अभी पूरी तरह से लीगल प्रैक्टिस पर ध्यान दे रहा हूं और इस वक्त सक्रिय राजनीति में शामिल नहीं हूं। रिपोर्ट के मुताबिक आशीष दोबारा नई दिल्ली लोकसभा से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन पार्टी इसके लिए तैयार नहीं है. पार्टी सूत्रों के मुताबिक नई दिल्ली सीट खाली पड़ी है। सीट कोई मुद्दा नहीं है। वैसे सूत्र बता रहे हैं कि खेतान इस्तीफ़ा दे या ना दें लेकिन फिलहाल वो वैसे भी पार्टी और राजनीति की बजाय लीगल प्रैक्टिस में लगे हैं।इससे पहले पंजाब में पार्टी नेता सुखपाल खैरा को AAP ने नेता विपक्ष पद से हटाया तो लंबे विवाद के बाद खैरा समर्थित पार्टी खेमे ने खैरा पार्टी का पंजाब का प्रमुख घोषित कर दिया। इन सबसे पता चलता है कि लोकसभा चुनाव 2019 से पहले AAP अपने और अपनों से जूझ रही है।