कांग्रेस को बड़ा झटका, कर्नाटक के राज्यसभा सांसद केसी राममूर्ति ने थामा बीजेपी का दामन

K C Rammurti
कांग्रेस को बड़ा झटका, कर्नाटक के राज्यसभा सांसद केसी राममूर्ति ने थामा बीजेपी का दामन

नई दिल्ली। कनार्टक से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद केसी राममूर्ति ने मंगलवार भाजपा की सदस्यता गृहण कर ली। बीजेपी के केंद्रीय कायार्लय में राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह, भूपेन्द्र यादव, केन्द्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने राममूर्ति को भाजपा की सदस्यता दिलाई। केएस राममूर्ति राज्यसभा से इस्तीफा दे चुके हैं। विपक्षी दलों के सांसदों के इस्तीफों और सत्तारूढ़ एनडीए के सदस्यों की संख्या में बढ़ने से मोदी सरकार राज्यसभा में बहुमत के करीब पहुंच गयी है।

Big Shock To Congress Rajya Sabha Mp From Karnataka Kc Ramamurthy Joins Bjp :

कांग्रेस के सांसद के सी राममूर्ति राज्यसभा से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी में शामिल हो गए हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि संसद के शीतकालीन सत्र से पहले विपक्ष के कुछ अन्य सांसद इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

वहीं राज्यसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के सदस्यों की संख्या अब सिर्फ 45 रह गयी है। वहीं कई राज्यों में मजबूत स्थिति में पहुंची भाजपा को रिक्त सीटों पर होने वाले उपचुनाव में काफी फायदा होने वाला है। उपचुनाव के बाद 245 सदस्यीय सदन में बीजेपी सदस्यों की संख्या 83 हो जाएगी।

राज्यसभा में अभी रिक्त सीटों की संख्या पांच है। सदन में भाजपा सहित राजग के सदस्यों की संख्या 106 है। उच्च सदन में सत्तापक्ष का बाहर से समर्थन करने वाले अन्नाद्रमुक के 11, बीजद के सात, टीआरएस के छह, वाईएसआर कांग्रेस के दो और तीन अन्य क्षेत्रीय दलों का समर्थन राजग को विधायन में बहुमत के संकट से उबारने में मददगार साबित होते हैं।

उल्लेखनीय है कि सत्तारूढ़ राजग का उच्च सदन में बहुमत नहीं होने के कारण मोदी सरकार को पिछले कार्यकाल में तीन तलाक सहित अन्य अहम विधेयकों को पारित कराने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा था। लोकसभा चुनाव के बाद तेदेपा, कांग्रेस और सपा छोड़ने वाले राज्यसभा सदस्यों को उपचुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बनाकर फिर से उच्च सदन में भेजा है। भाजपा को आने वाले दिनों में विपक्ष के कुछ अन्य सदस्यों के इस्तीफे की उम्मीद है।

नई दिल्ली। कनार्टक से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद केसी राममूर्ति ने मंगलवार भाजपा की सदस्यता गृहण कर ली। बीजेपी के केंद्रीय कायार्लय में राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह, भूपेन्द्र यादव, केन्द्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने राममूर्ति को भाजपा की सदस्यता दिलाई। केएस राममूर्ति राज्यसभा से इस्तीफा दे चुके हैं। विपक्षी दलों के सांसदों के इस्तीफों और सत्तारूढ़ एनडीए के सदस्यों की संख्या में बढ़ने से मोदी सरकार राज्यसभा में बहुमत के करीब पहुंच गयी है। कांग्रेस के सांसद के सी राममूर्ति राज्यसभा से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी में शामिल हो गए हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि संसद के शीतकालीन सत्र से पहले विपक्ष के कुछ अन्य सांसद इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। वहीं राज्यसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के सदस्यों की संख्या अब सिर्फ 45 रह गयी है। वहीं कई राज्यों में मजबूत स्थिति में पहुंची भाजपा को रिक्त सीटों पर होने वाले उपचुनाव में काफी फायदा होने वाला है। उपचुनाव के बाद 245 सदस्यीय सदन में बीजेपी सदस्यों की संख्या 83 हो जाएगी। राज्यसभा में अभी रिक्त सीटों की संख्या पांच है। सदन में भाजपा सहित राजग के सदस्यों की संख्या 106 है। उच्च सदन में सत्तापक्ष का बाहर से समर्थन करने वाले अन्नाद्रमुक के 11, बीजद के सात, टीआरएस के छह, वाईएसआर कांग्रेस के दो और तीन अन्य क्षेत्रीय दलों का समर्थन राजग को विधायन में बहुमत के संकट से उबारने में मददगार साबित होते हैं। उल्लेखनीय है कि सत्तारूढ़ राजग का उच्च सदन में बहुमत नहीं होने के कारण मोदी सरकार को पिछले कार्यकाल में तीन तलाक सहित अन्य अहम विधेयकों को पारित कराने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा था। लोकसभा चुनाव के बाद तेदेपा, कांग्रेस और सपा छोड़ने वाले राज्यसभा सदस्यों को उपचुनाव में भाजपा ने अपना उम्मीदवार बनाकर फिर से उच्च सदन में भेजा है। भाजपा को आने वाले दिनों में विपक्ष के कुछ अन्य सदस्यों के इस्तीफे की उम्मीद है।