Bigg Boss 11 की कंटेस्टेंट शिवानी दुर्गा को है श्मशान से प्यार, जानिए तांत्रिक बनने की कहानी

बिग बॉस सीजन 10 में साधु के रूप में स्वामी ओम थे और सीजन 11 में अब साधवी शिवानी दुर्गा हैं। हालांकि शिवानी दुर्गा की तुलना स्वामी ओम से नहीं की जा सकती है, क्योंकि वे काफी एजुकेटिड हैं और उनका बात करने का लहजा काफी अट्रैक्टिव है। आज हम आपको शिवानी दुर्गा की लाइफ से जुड़े वो फैक्ट्स बता रहे हैं जिनके बारे में आप अंजान है। जानिए कहां से ताल्लुख रखती हैं दुर्गा और बिग बॉस में आने के पीछे क्या है वजह और कैसे बनीं एक अभिनेत्री से तांत्रिक साधिका।

शिवानी दुर्गा राजस्थान के अलवर की रहने वाली हैं। वे खुद को पश्चिमी देशों के तंत्र शास्त्र की साधिका बताती हैं। लेकिन बिग बॉस में वे कन्टेस्टेंट के तौर दिख रही हैं। शिवानी दुर्गा ने अमेरिका की शिकागो यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री हासिल की। उन्हें तांत्रिक विद्या में काफी ज्ञान है। शिवानी दुर्गा को हिंदी, अंग्रेजी के अलावा कई भाषाओं का ज्ञान है।

{ यह भी पढ़ें:- Video: नागिन डांस ने सपना चौधरी को कर दिया पॉपुलर }

इसके अलावा वे संगीत में रुचि रखती हैं। कई भाषाओं का ज्ञान होने के कारण ही उनके देश से लेकर विदेशों में भी भक्त हैं।

उनके बिग बॉस में आने के पीछे एक वजह है। दरअसल, उनका कहना है कि वह ‘बिग बॉस’ में साधु संतों की छवि को सुधारने के लिए आईं हैं। कुछ दिन पहले ही उनका एक इंटरव्यू आया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘पिछले कुछ वक्त से समाज मे साधुओं की छवि पर एक प्रश्नचिह्न लग गया है मैं इसे अब दूर करना चाहती हूं’। बता दें कि देश में कई फर्जी बाबाओं की लिस्ट जारी हुई है। राम रहीम, स्वामी ओम, आसाराम, सतपाल सिह जैसे कई बाबा पहले से ही चर्चाओं में हैं।

{ यह भी पढ़ें:- Big Boss11: शो में होगी मनु पंजाबी और सरगुन मेहता की एंट्री }

दुर्गा का कहना है कि उनकी कोशिश रहेगी की अब पॉजिटिव और नेगेटिव इमेज के बैलेंस के बारे में लोगों का समझा सकें। दुर्गा उज्जैन सिंहस्थ मेले के दौरान सुर्खियों में आई थी। बताया जाता है कि उन्होंने भारतीय और पश्चिमी तंत्र की विशेषताओं को जोड़कर कुछ नई पद्धतियों की खोज की है।

खबरों के अनुसार दुर्गा की मां की मौत हो जाने के बाद उनके पिता ने अपनी ही एक संगीत की शिष्या बरखा से दोबारा शादी कर ली। पिता के दूसरी शादी करने के बाद सौतेली मां ने दुर्गा और उनकी छोटी बहन को घर में प्रताड़िता किया और बाहर निकाल दिया। बाद में दुर्गा अपनी छोटी बहन के साथ अलवर के एसएमडी स्कूल में चली गईं। दोनों एक ही स्कूल में पढ़ती थीं।

दुर्गा कई बार भूखों रहती थीं और गिर जाती थीं। इसके बाद उनकी टीचर्स 10-10 रुपए इकट्ठा करतीं और कुछ खाना खिलाती थीं। डिग्री पूरी होने के बाद शिवानी ने नौकरी की लेकिन बाद में उनका मन भर गया। शिवानी ने बताया, दोनों अकेली बहनों को देख लोग ऐसे पीछे पड़ जाते थे जैसे कोई भेड़िया हो। इसके बाद शिवानी मुंबई चली गई। वहां कुछ फिल्मों-सीरीयल में भी काम कर गुजारा किया।

{ यह भी पढ़ें:- Bigg Boss 11 : सलमान खान को जुबैर का चैलेंज, हिम्मत है तो बिना बॉडीगार्ड के मिल }

फिल्मी दुनिया में भी शिवानी ज्यादा दिन नहीं टिकीं। क्योंकि उनका मानना है कि जीवन में जो देखना चाहती थीं वो उन्हें मिला ही नहीं था। इसलिए जो उन्हें दिखा नहीं वहां उनकी दिलचस्पी बढ़ी। बाद में उन्हें श्मशान से प्यार हो गया। उनके अंदर वशीकरण क्या है, प्रेतात्माएं क्या हैं। इन्हें देखने की इच्छाएं जागृत होने लगीं। यहीं से उनका तंत्र साधना का सफर शुरु हो गया। वे तंत्रिक विद्या में काफी निपुण हैं। इस दुनिया में आकर उन्होंने सन्यास ले लिया।