बिहार में डॉक्टर की लापरवाहीः बाएं हाथ में था फ्रैक्चर, दाएं हाथ में बांधा प्लास्टर

bihar
बिहार में डॉक्टर की लापरवाहीः बाएं हाथ में था फ्रैक्चर, दाएं हाथ में बांधा प्लास्टर

दरभंगा। बिहार की एक अस्पताल में घोर लापरवाही का मामला सामने आया है। बिहार के दरभंगा मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल (डीएमसीएच)का है, जहां डॉक्टरों ने दाहिने हाथ में प्लास्टर बांध दिया जबकि फ्रैक्चर बाएं हाथ में था। उधर, हॉस्पिटल अधीक्षक डॉ. राज रंजन प्रसाद ने कहा है कि लापरवाही के संबंध में संबंधित डॉक्टरों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। उन्होंने दावा किया कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

Bihar A Boy Right Hand Was Plastered At Darbhanga Medical College And Hospital Dmch Instead Of His :

दरअसल, हनुमान नगर के रहने वाले मासूम फैजान आम के पेड़ से गिर गया था। इस हादसे में उसके बाएं हाथ की हड्डी टूट गई। परिजन फैजान को दरभंगा के DMCH में इलाज़ के लिए लेकर गए। यहां X-Ray में यह पता लगा कि बच्चे के बाएं हाथ में फ्रैक्चर है, लेकिन डॉक्टर ने बच्चे के टूटे हुए बाएं हाथ के बदले बच्चे के दाहिने हाथ पर ही प्लास्टर कर दिया।

आश्चर्य की बात यह है कि बच्चे ने डॉक्टर को अंदर प्लास्टर के समय भी बताया, लेकिन सभी ने उसकी बातों को अनसुना कर दिया। जबकि डॉक्टर के लिखे प्रिस्क्रिपशन में भी बाएं हाथ टूटने के बारे में लिखा हुआ था।

मामला सुर्खियों में आने पर दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (DMCH) के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ राज रंजन प्रसाद ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री ने इस लापरवाही की जांच करने के लिए निर्देश दिया है। साथ ही संबंधित टीम से स्पष्टीकरण मांगने के लिए कहा है। रंजन ने कहा कि मैं इस घटना की निंदा करता हूं। शीघ्र ही मामले की जांच कर दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

दरभंगा। बिहार की एक अस्पताल में घोर लापरवाही का मामला सामने आया है। बिहार के दरभंगा मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल (डीएमसीएच)का है, जहां डॉक्टरों ने दाहिने हाथ में प्लास्टर बांध दिया जबकि फ्रैक्चर बाएं हाथ में था। उधर, हॉस्पिटल अधीक्षक डॉ. राज रंजन प्रसाद ने कहा है कि लापरवाही के संबंध में संबंधित डॉक्टरों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। उन्होंने दावा किया कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। दरअसल, हनुमान नगर के रहने वाले मासूम फैजान आम के पेड़ से गिर गया था। इस हादसे में उसके बाएं हाथ की हड्डी टूट गई। परिजन फैजान को दरभंगा के DMCH में इलाज़ के लिए लेकर गए। यहां X-Ray में यह पता लगा कि बच्चे के बाएं हाथ में फ्रैक्चर है, लेकिन डॉक्टर ने बच्चे के टूटे हुए बाएं हाथ के बदले बच्चे के दाहिने हाथ पर ही प्लास्टर कर दिया। आश्चर्य की बात यह है कि बच्चे ने डॉक्टर को अंदर प्लास्टर के समय भी बताया, लेकिन सभी ने उसकी बातों को अनसुना कर दिया। जबकि डॉक्टर के लिखे प्रिस्क्रिपशन में भी बाएं हाथ टूटने के बारे में लिखा हुआ था। मामला सुर्खियों में आने पर दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (DMCH) के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ राज रंजन प्रसाद ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री ने इस लापरवाही की जांच करने के लिए निर्देश दिया है। साथ ही संबंधित टीम से स्पष्टीकरण मांगने के लिए कहा है। रंजन ने कहा कि मैं इस घटना की निंदा करता हूं। शीघ्र ही मामले की जांच कर दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।