पटना में पूर्व PM अटल बिहारी की लगेगी प्रतिमा, CM नीतीश ने किया ऐलान

nitish kumar
पटना में पूर्व PM अटल बिहारी की लगेगी प्रतिमा, CM नीतीश ने किया ऐलान

पटना। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) का स्मारक ‘सदैव अटल उनके 94वें जयंती के अवसर पर मंगलवार को राष्ट्र को समर्पित कर दिया गया। नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार में आज के दिन को ‘राजकीय सम्मान’ के रूप में मनाया जाएगा और पटना में अटल जी की एक प्रतिमा भी स्थापित की जाएगी। और जल्द ही स्थान को लेकर फैसला करेंगे।

Bihar Chief Minister Nitish Kumar Says A Statue Of Atal Bihari Vajpayee Will Be Erected In Patna :

वहीं दिल्ली में वाजपेयी की जयंती पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और अन्य गणमान्य हस्तियों ने राजघाट के नजदीक स्थित सदैव अटल स्मृति स्थल पर आयोजित प्रार्थना में हिस्सा लिया और श्रद्धांजलि अर्पित की।इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एवं वाजपेयी के परिवार के सदस्य भी मौजूद थे। वाजपेयी का निधन लम्बी बीमारी के कारण गत 16 अगस्त को हो गया था।

नीतीश ने इस मौके पर कहा, “राजनीति में वाजपेयी जी ने सौहार्द्र का वातावरण हमेशा बनाए रखा। वो देश के प्रधानमंत्री भी बने लेकिन जिस तरह से उन्होंने देश को चलाने की, समाज को एकजुट रखने की कोशिश की, वो हमेशा याद किया जाएगा। विपक्ष के साथ भी उनका व्यवहार देखने लायक था।” इस दौरान नीतीश ने उस वक्त का जिक्र भी किया जब वो अटल जी की सरकार में मंत्री थे। उन्होंने कहा, “मैं उनके साथ केंद्र सरकार में काम कर चुका हूं। जिस तरह मुझे उनका आशीर्वाद प्राप्त होता था, मैं उसे कभी नहीं भूल सकता।”

नीतीश कुमार ने अटल जी के निधन के समय की बातों को याद करते हुए कहा, “जब उनका निधन हुआ था तो पूरे देश ने उनको श्रद्धा-सुमन अर्पित किया था। ऐसी श्रद्धांजलि किसी और नेता के लिए कभी नहीं देखने को मिली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के संस्थापक सदस्यों में शामिल रहे अटल बिहारी वाजपेयी पहली बार साल 1996 में देश के पीएम बने। दूसरी बार साल 1998 में पीएम बने और तीसरी बार साल 1999 में पीएम बने। साल 2015 में मोदी सरकार ने उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से नवाजा था।

पटना। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) का स्मारक 'सदैव अटल उनके 94वें जयंती के अवसर पर मंगलवार को राष्ट्र को समर्पित कर दिया गया। नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार में आज के दिन को 'राजकीय सम्मान' के रूप में मनाया जाएगा और पटना में अटल जी की एक प्रतिमा भी स्थापित की जाएगी। और जल्द ही स्थान को लेकर फैसला करेंगे। वहीं दिल्ली में वाजपेयी की जयंती पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और अन्य गणमान्य हस्तियों ने राजघाट के नजदीक स्थित सदैव अटल स्मृति स्थल पर आयोजित प्रार्थना में हिस्सा लिया और श्रद्धांजलि अर्पित की।इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एवं वाजपेयी के परिवार के सदस्य भी मौजूद थे। वाजपेयी का निधन लम्बी बीमारी के कारण गत 16 अगस्त को हो गया था। नीतीश ने इस मौके पर कहा, "राजनीति में वाजपेयी जी ने सौहार्द्र का वातावरण हमेशा बनाए रखा। वो देश के प्रधानमंत्री भी बने लेकिन जिस तरह से उन्होंने देश को चलाने की, समाज को एकजुट रखने की कोशिश की, वो हमेशा याद किया जाएगा। विपक्ष के साथ भी उनका व्यवहार देखने लायक था।" इस दौरान नीतीश ने उस वक्त का जिक्र भी किया जब वो अटल जी की सरकार में मंत्री थे। उन्होंने कहा, "मैं उनके साथ केंद्र सरकार में काम कर चुका हूं। जिस तरह मुझे उनका आशीर्वाद प्राप्त होता था, मैं उसे कभी नहीं भूल सकता।'' नीतीश कुमार ने अटल जी के निधन के समय की बातों को याद करते हुए कहा, "जब उनका निधन हुआ था तो पूरे देश ने उनको श्रद्धा-सुमन अर्पित किया था। ऐसी श्रद्धांजलि किसी और नेता के लिए कभी नहीं देखने को मिली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के संस्थापक सदस्यों में शामिल रहे अटल बिहारी वाजपेयी पहली बार साल 1996 में देश के पीएम बने। दूसरी बार साल 1998 में पीएम बने और तीसरी बार साल 1999 में पीएम बने। साल 2015 में मोदी सरकार ने उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' से नवाजा था।