बिहार: राज्यसभा सीट को लेकर महागठबंधन में तकरार, कांग्रेस ने चिट्ठी लिखकर तेजस्वी को याद दिलाया वादा

rjd
बिहार: राज्यसभा सीट को लेकर महागठबंधन में तकरार, कांग्रेस ने चिट्ठी लिखकर तेजस्वी यादव को याद दिलाया वादा

नई दिल्ली। बिहार के पांच राज्यसभा सीटों के लिए हो रहे चुनाव की सियासी बिसात बिछाई जाने लगी है। एनडीए के खाते में तीन राज्यसभा सीटें आ रही हैं जबकि दो सीटें महागठबंधन को मिलने की संभावना है। इन्हीं दोनों सीटों को लेकर आरजेडी और कांग्रेस के बीच भी तनातनी तेज हो गई है। कांग्रेस ने गठबंधन सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को वादा याद दिलाया है। बिहार कांग्रेस के प्रभारी और राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्तिसिंह गोहिल ने राज्यसभा की एक सीट बिहार के कांग्रेस नेता के लिए छोड़ने की अपील की है।

Bihar Controversy In Grand Alliance Over Rajya Sabha Seat Congress Writes Letter To Remind Tejashwi Yadav :

उन्होंने तेजस्वी यादव के नाम एक खुला पत्र लिखते हुए कहा, ‘लोकसभा चुनाव के वक्त महागठबंधन के नेताओं की साझा प्रेस वार्ता के वक्त आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने साफ शब्दों में कहा था कि आरजेडी कोटे से राज्यसभा की एक सीट बिहार कांग्रेस के नेता के लिए छोड़ी जाएगी।’

अच्छे लोगों के लिए कहा जाता है कि प्राण जाए पर वचन न जाए

शक्तिसिंह गोहिल ने आगे लिखा, ‘अच्छे लोगों के लिए कहा जाता है कि प्राण जाए पर वचन न जाए। उम्मीद है कि आरजेडी के नेता अपने वचन का पालन करेंगे।’ उन्होंने साफ किया कि राज्यसभा की सीट के लिए कांग्रेस की ओर से बिहार का ही कोई नेता प्रत्याशी बनेगा। उन्होंने कहा कि मेरे जैसा कोई नेता भी (जो बिहार का मतदाता नहीं है) कांग्रेस का प्रत्याशी नहीं होगा।

शक्तिसिंह गोहिल का पत्र

हालांकि आरजेडी के विधायक भाई वीरेंद्र ने साफ कर दिया है कि पार्टी इस बार कांग्रेस के लिए कोई त्याग नहीं करेगी। उन्होंने कहा,’हम दोनों सीटों से अपने कैंडिडेट्स को राज्यसभा भेजेंगे। हमने पिछली बार कांग्रेस को एक सीट दी थी, हर बार हम त्याग नहीं करेंगे।’

खाली हो रहीं पांच सीटों में से 3 बीजेपी-जेडीयू के खाते में जाना तय

हालांकि शक्तिसिंह गोहिल के इस पत्र पर तेजस्वी यादव ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। बता दें कि मौजूदा समीकरण के लिहाज से खाली हो रहीं पांच सीटों में से एनडीए के खाते में तीन जाएंगी जबकि दो सीटें आरजेडी और उसके सहयोगी दलों के खाते में जा सकती हैं। इन सीटों पर राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश सिंह, कहकशां परवीन, रामनाथ ठाकुर जेडीयू कोटे से हैं, तो सीपी ठाकुर और आरके सिन्हा बीजेपी के खाते से राज्यसभा सदस्य हैं।  

नई दिल्ली। बिहार के पांच राज्यसभा सीटों के लिए हो रहे चुनाव की सियासी बिसात बिछाई जाने लगी है। एनडीए के खाते में तीन राज्यसभा सीटें आ रही हैं जबकि दो सीटें महागठबंधन को मिलने की संभावना है। इन्हीं दोनों सीटों को लेकर आरजेडी और कांग्रेस के बीच भी तनातनी तेज हो गई है। कांग्रेस ने गठबंधन सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को वादा याद दिलाया है। बिहार कांग्रेस के प्रभारी और राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्तिसिंह गोहिल ने राज्यसभा की एक सीट बिहार के कांग्रेस नेता के लिए छोड़ने की अपील की है। उन्होंने तेजस्वी यादव के नाम एक खुला पत्र लिखते हुए कहा, 'लोकसभा चुनाव के वक्त महागठबंधन के नेताओं की साझा प्रेस वार्ता के वक्त आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने साफ शब्दों में कहा था कि आरजेडी कोटे से राज्यसभा की एक सीट बिहार कांग्रेस के नेता के लिए छोड़ी जाएगी।' अच्छे लोगों के लिए कहा जाता है कि प्राण जाए पर वचन न जाए शक्तिसिंह गोहिल ने आगे लिखा, 'अच्छे लोगों के लिए कहा जाता है कि प्राण जाए पर वचन न जाए। उम्मीद है कि आरजेडी के नेता अपने वचन का पालन करेंगे।' उन्होंने साफ किया कि राज्यसभा की सीट के लिए कांग्रेस की ओर से बिहार का ही कोई नेता प्रत्याशी बनेगा। उन्होंने कहा कि मेरे जैसा कोई नेता भी (जो बिहार का मतदाता नहीं है) कांग्रेस का प्रत्याशी नहीं होगा। शक्तिसिंह गोहिल का पत्र हालांकि आरजेडी के विधायक भाई वीरेंद्र ने साफ कर दिया है कि पार्टी इस बार कांग्रेस के लिए कोई त्याग नहीं करेगी। उन्होंने कहा,'हम दोनों सीटों से अपने कैंडिडेट्स को राज्यसभा भेजेंगे। हमने पिछली बार कांग्रेस को एक सीट दी थी, हर बार हम त्याग नहीं करेंगे।' खाली हो रहीं पांच सीटों में से 3 बीजेपी-जेडीयू के खाते में जाना तय हालांकि शक्तिसिंह गोहिल के इस पत्र पर तेजस्वी यादव ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। बता दें कि मौजूदा समीकरण के लिहाज से खाली हो रहीं पांच सीटों में से एनडीए के खाते में तीन जाएंगी जबकि दो सीटें आरजेडी और उसके सहयोगी दलों के खाते में जा सकती हैं। इन सीटों पर राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश सिंह, कहकशां परवीन, रामनाथ ठाकुर जेडीयू कोटे से हैं, तो सीपी ठाकुर और आरके सिन्हा बीजेपी के खाते से राज्यसभा सदस्य हैं।