बाढ़ से बेहाल बिहार: मृतकों की संख्या हुई 514, सीएम नीतीश ने की समीक्षा बैठक

पटना। बिहार के कई जिलों में अभी भी बाढ़ का पानी बह रहा है। बिहार में बाढ़ से 1.71 करोड़ से ज्यादा की आबादी अभी भी प्रभावित है, जबकि बाढ़ की चपेट में आने से मरने वालों की संख्या प्रतिदिन बढ़ रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान बाढ़ की चपेट में आने से 32 लोगों की मौत हो गई, जिससे बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 514 तक पहुंच गई है। सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की और कई आवश्यक निर्देश दिए।

बिहार राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, बाढ़ग्रस्त जिलों के प्रभावित इलाकों से अब बाढ़ का पानी उतर रहा है, लेकिन अभी भी राज्य के 19 जिलों के 187 प्रखंडों की 1.71 करोड़ से ज्यादा की आबादी बाढ़ से प्रभावित है। बाढ़ की चपेट में आने से मरने वालों की संख्या में वृद्धि हो रही है।

{ यह भी पढ़ें:- एक मिस कॉल से शुरू हुई लव स्टोरी, सामने देख छात्रा के उड़े होश }

आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा सोमवार को जारी आंकड़े के मुताबिक, राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में पिछले 24 घंटे के दौरान बाढ़ से 32 लोगों की मौत हुई है, जिस कारण बाढ़ से मरने वालों की संख्या 514 तक पहुंच गई है। अररिया में सबसे ज्यादा 95 लोगों की मौत हुई है, जबकि किशनगंज में 24, पूर्णिया में 44, कटिहार में 40, पूर्वी चंपारण में 32, पश्चिमी चंपारण में 42, दरभंगा में 37, मधुबनी में 28, सीतामढ़ी में 47, शिवहर में छह, सुपौल में 16, मधेपुरा में 29, गोपालगंज में 20, सहरसा में आठ, खगड़िया में 10, मुजफ्फरपुर में 21, समस्तीपुर में दो तथा सारण में 13 लोगों की मौत हुई है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को सभी जिलों के जिला अधिकारियों एवं जिलास्तरीय अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बाढ़ राहत कार्यो की समीक्षा बैठक की तथा अधिकारियों को कई निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा, इस बार की बाढ़ अभूतपूर्व थी। मैंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया। अधिकारियों को भी निर्देश देकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कराया गया, ताकि वे स्थिति का सही आकलन कर सकें।

{ यह भी पढ़ें:- अस्पताल में बंधक बनी मां को डिस्चार्ज कराने के लिए 10 साल के बेटे ने मांगी भीख }

Loading...