बाप करता रेकी, बेटा मोबाइल चोरी

पटना: कोतवाली थाने की पुलिस ने बाप-बेटे को पकड़ा है, इनकी कारस्तानी देख लोगों की आंखें खुली रह गईं। ग्यारह वर्षीय लड़के ने हाथ में प्लास्टिक का फोल्डर लेकर इसे शिकार की जेब से सटाकर ऐसे मोबाइल गायब कर दिया कि शिकार हुए व्यक्ति को अहसास तक नहीं हुआ। झारखंड के जिस गांव के ये बाप-बेटे रहने वाले हैं, वहां पॉकेटमारी की तालीम दी जाती है और यह पेशा बच्चों को विरासत में मिलता है।1 डीएसपी डॉ. मो. शिब्ली नोमानी ने बताया कि पड़ताल के क्रम में उस गांव के कई और लोगों के यहां होने की जानकारी मिली है।




पूरा कुनबा भी हो सकता है। एक विशेष टीम उन्हें दबोचने के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। 1हुआ यूं कि 22 दिसंबर को न्यू डाकबंगला रोड स्थित पॉलसन नामक दुकान के मालिक सन्नी गांधी का मोबाइल चोरी हो गया। वारदात दुकान में हुई। उन्होंने कोतवाली थाने में तहरीर देने के साथ पुलिस को सीसी कैमरे का फुटेज भी दिया था, जिसमें बच्चे की हरकत कैद हो गई थी। पुलिस ने उस बच्चे की तस्वीर को इलाके की सभी प्रमुख दुकान में भेज दिया। रविवार शाम मौर्य लोक परिसर स्थित एक दुकान में बच्चा चोरी करने आया तभी दुकानदार ने उसे दबोच लिया और पुलिस को सौंप दिया।




बच्चे की निशानदेही पर दुकान के पास से उसके पिता अशोक महतो को पकड़ा गया। पूछताछ में मालूम हुआ कि वे झारखंड के साहेबगंज जिले के तालमांझी थानान्तर्गत कल्याणी पंचायत के नया टोला महाजपुर गांव के रहने वाले हैं। इस गांव में बच्चा जब चलना शुरू करता है, तभी से उसे पॉकेटमारी करना सिखाया जाता है। अशोक बेटे को साथ लेकर रेकी करता था। माहौल को भांपने के बाद उसका बेटे शिकार की जेब से मोबाइल गायब करता था।’

Loading...