अब डीएम साहब रखेंगे पति-पत्नी की पर्सनल बातों पर नज़र

पटना: बिहार में मधेपुरा के जिलाधिकारी ने एक अजीबोगरीब फरमान देकर सुर्ख़ियों में आ गए हैं। डीएम ने जिले से संचालित हो रहे सभी व्हाट्सएप और फेसबुक ग्रुप से जिला प्रशासन को जोड़ने का फरमान जारी किया है। और यह भी कहा है कि अगर किसी ने यह आदेश नहीं माना तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। प्रसाशन के इस आदेश के अनुसार अब फैमिली ग्रुप्स में पति-पत्नी के बीच होने वाली निजी बातों में भी तांका-झांकी करेगा प्रसाशन।




इस मामले पर डीएम मोह्हमद सुहैल का कहना है कि उनका आदेश सोशल ग्रुप्स पर लागू है, न कि व्यक्तिगत। उन्होंने कहा कि आदेश में इसे स्पष्ट किया गया है। वहीं, आदेश की कॉपी में यह स्पष्ट नहीं है कि यह केवल सोशल ग्रुप्स पर ही लागू है।

जिला प्रशासन स्तर से जारी आदेश में कहा गया है कि बिहारीगंज में छापामारी में कुछ मोबाइल जब्त किए गए थे। जांच में पाया गया कि यहां तनाव फैलाने के लिए फेसबुक और व्हाट्सऐप का इस्तेमाल किया गया था। भविष्य में ऐसी घटना न हो, इसके लिए मॉनिटरिंग सेल बनाया गया है।

मॉनिटरिंग सेल का यह दायित्व है कि वह सभी प्रकार के ग्रुप्स का अनुश्रवण कर प्राप्त सूचनाओं को लेखनबद्ध करे। साथ ही प्राप्त सूचनाओं के आधार पर दोषी पाए जाने पर भारतीय दंड संहिता एवं आईटी अधिनियम की धाराओं के तहत कार्रवाई करे। इस मॉनिटरिंग सेल से जुड़ने के लिए व्हाट्सऐप मोबाइल नंबर (9955948775) तथा फेसबुक ग्रुप को ‘मधेपुरा मॉनिटर’ पर रिक्वेस्ट भेजने हैं।

आस्था सिंह की रिपोर्ट