गौमांस तस्करी के नाम पर बिहार में हुई मॉब लिंचिंग, तीन को पीटा

गौमांस तस्करी के नाम पर बिहार में हुई मॉब लिंचिंग, तीन को पीटा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गौरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों को भले ही कई चेतावनियां दी हो लेकिन गौरक्षा के नाम पर अपनी दुकान चलाने वालों के कानों तक पीएम की चेतावनी नहीं पहुंची है। ताजा मामला बिहार के भोजपुर का है। जहां ग्रामीणों ने मीट से लदे ट्रक को कब्जे में लेकर ट्रक के ड्राइवर समेंत तीन लोगों की पिटाई कर दी। मौके पर जमा हुई भीड़ ने अपनी ​शक्ति प्रदर्शन् करते हुए आरा—बक्सर नेशनल हाईवे 84 को भी जाम कर दिया। जिसके बाद पहुंची पुलिस ने भीड़ को शांत करवाया।

घटना भोजपुर जिले के शाहपुर थाना क्षेत्र से गुजरने वाले एनएच 84 के एक पैट्रोल पंप की है। जहां मीट से लदे एक ट्रक को स्थानीय लोगों ने रोक कर ट्रक सवाल तीन लोगों की पिटाई कर दी। लोगों का कहना है कि बक्सर के पास रानीसागर नाम के गांव में अवैध स्लॉटर हाउस चलाकर गौमांस की तस्करी की जा रही है।

{ यह भी पढ़ें:- लालू प्रसाद के बेटे की दिवाली पर सलाह, 'पटाखा से अच्छा बैलून फुलाइए और फोड़िए' }

ग्रामीणों का आरोप था कि शाहपुर कोतवाली के एसएचओ ने गौमांस तस्करों को संरक्षण दे रखा है। मौके पर पहुंचे पुलिस के अधिकारियों ने तीनों आरोपियों को हिरासत में लेकर, मीट से लदे ट्रक को अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस का कहना है कि उन्होंने मीट का सैंपल टेस्ट के लिए लैब में भेज दिया है।

भोजपुर के जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने अवैध कत्लखानों की वास्तविकता पता करने का आश्वासन भी दिया है। इसके साथ ही पुलिस अधीक्षक ने ग्रामीणों के आरोपों की जांच के लिए शाहपुर एसएचओ के खिलाफ भी जांच कराए जाने की बात कही है।

{ यह भी पढ़ें:- नाबालिग के साथ पांच लड़कों ने किया गैंगरेप, वारदात का बना लिया वीडियो }

आपको बता दें कि गौरक्षा और गौमांस तस्करी के नाम पर हो रही हिंसक घटनाओं ने सारे देश का ध्यान अपनी ओर खींचा है। इस तरह की घटनाओं में कई लोगों की मौत हो चुकी है। अधिकांश घटनाएं बीजेपी शासित राज्यों में सामने आने की वजह से विपक्ष इन वारदातों को अंजाम देने वालों को सरकार से संरक्षण दिए जाने के आरोप लगाए थे। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गौरक्षा के नाम पर होने वाली हत्याओं की निंदा करते हुए गौर रक्षकों को संदेश देते हुए कहा था कि लोगों की हत्या को गौ भक्ति का नाम नहीं दिया जा सकता।