बीएसए की अभद्रता पर भड़के शिक्षकगण, कार्रवाही की मांग की

बिजनौर। शिक्षक-शिक्षिकाओं ने बीएसए का घेराव कर निरीक्षण के दौरान शिक्षिकाओं से अभद्रता करने का आरोप लगाया। मौके की नजाकत को समझते हुए बीएसए वहां से बहाना बनाकर गायब हो गए। इस पर शिक्षकगणों ने 26 सितम्बर तक का अल्टीमेटम इेते हुए वार्ता न करने पर आंदोलन की चेतावनी दी।




उत्तर प्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ व उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के बैनर तले अनेक शिक्षक-शिक्षिकाएं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर पहुंचे और बीएसए के खिलाफ प्रदर्शन किया। शिक्षकों का आरोप था कि बीएसए ने निरीक्षण के दौरान रसूलपुर पिरथी में मुख्याध्यापिका व अन्य स्टाफ के साथ अभद्रता की। शिक्षिका का आरोप है कि कुछ ऐसे शब्द कहे जिन्हें वह बयां नहीं कर सकती हैं। इससे उन्हें काफी मानसिक आघात पहुंचा है। वहां पर बीएसए के न होने पर ये शिक्षकगण उनके बारे में जानकारी जुटाने लगे।

जानकारी मिलते ही ये एलआईसी कार्यालय के पास पहुंच गए और वहां से गुजर रहे बीएसए का घेराव कर प्रदर्शन किया। बीएसए एक घंटा बाद कार्यालय में पहुंचने की बात कहकर वहां से निकल लिए गए।, लेकिन बाद में कार्यालय पर नहीं पहुंचे। इसके चलते शिक्षकों ने चेतावनी दी कि 26 सितम्बर तक वार्ता न करने पर संगठन आंदोलन के लिए बाध्य होगा। प्रदर्शन के दौरान जिलाध्यक्ष सुधीर कुमार यादव, महामंत्री दुष्यंत कुमार, प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष नागेश कुमार, महामंत्री प्रशांत कुमार, लता रानी, लीना तोमर, अर्चना शर्मा, आशा, चंद्रकांता आदि रहे।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट