वर्दी कलंक, पुलिस के सीमा विवाद में घंटों पड़ा रहा लावारिस शव

बिजनौर/धामपुर। मानवता को शर्मसार करते हुए सीमा विवाद के चलते एक शव घंटो लावारिस अवस्था में रेलवे माल गोदाम के पास पड़ा रहा। जीआरपी, आरपीएफ तथा सिविल तीनों पुलिस एक-दूसरे का क्षेत्र बता कर शव उठाने में आना-कानी करते रहे।




प्राप्त जानकारी के अनुसार धामपुर रेलवे स्टेशन के माल गोदाम पर पिछले कुछ दिनों से रह रहे एक वृद्ध भिखारी कीदेर रात किसी समय मौत हो गई। राहगीरों ने पुलिस को शव पड़ा होने की जानकारी दी। बताया जाता है कि सीमा विवाद के कारण रेलवे की आरपीएफ, जीआरपी तथा सिविल पुलिस मे से तीनों में से किसी ने भी मौके पर जाकर शव को उठाने की जहमत नहीं उठाई। तीनों विभागों की पुलिस एक-दूसरे का इलाका होने का हवाला देती रही। जिससे कई घंटे शव लवारिस की तरह खुले मे पड़ा रहा।

कई घंटे बाद कोतवाली धामपुर पुलिस की ओर से प्रभारी निरीक्षक मुनीश कुमार शर्मा, वरिष्ठ उपनिरीक्षक राजेन्द्र सिंह, उपनिरीक्षक कृपाल सिंह आदि ने रेलवे माल गोदाम के पास पड़े वृद्ध भिखारी के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु बिजनौर भिजवाया। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मुनीश कुमार शर्मा का कहना है कि माल गोदाम का क्षेत्र धामपुर रेलवे स्टेशन परिसर के अन्तर्गत आता है, लेकिन जब आरपीएफ व जीआरपी ने शव को अपने कब्जे में लेने से माना कर दिया तो उन्होंने ही मानवता के नाते शव अपने कब्जे में लिया हैै। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम हेतु जिला अस्पताल भेज दिया गया है। शव की शिनाख्त नहीं हो पाई है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट