व्यवसायिक शिक्षको के पूरे मानदेय का शीघ्र भुगतान: प्रदीप जैन

बिजनौर/नगीना। माध्यमिक व्यवसायिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष प्रदीप जैन ने कहा कि विभिन्न टेडों में कार्यरत किसी भी व्यावसायिक शिक्षक को हटाया नहीं जाऐगा तथा प्रत्येक व्यवसायिक शिक्षक को पूरे मानदेय का भुगतान किया जाएगा। नए व्यावसायिक शिक्षक की नियुक्ति शिक्षा निदेशक लखनऊ की पूर्व अनुमति के बाद ही हो सकेगी। शासन ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। बताया कि वेतन समिति की तीन अक्टूबर को लखनऊ में होने वाली बैठक में प्रदेशाध्यक्ष तेज बहादुर व महामंत्री श्री नारायण चतुर्वेदी भी हिस्सा लेंगे।



जिलाध्यक्ष प्रदीप जैन ने बताया कि शासन के संयुक्त सचिव शत्रुन्जय सिंह ने 28 सितंबर 16 को शिक्षा निदेशक (मा.) लखनऊ को आदेश जारी कर कहा है कि व्यावसायिक शिक्षक कार्यरत हैं। दोनों को उसी प्रकार कार्यरत रहने दिया जाए तथा दोनों को दस दस हजार रुपये मानदेय का भुगतान किया जाएगा। जिन टे्रडों में से एक व्यावसायिक शिक्षक कार्यरत है उनमें दूसरा व्यावसायिक शिक्षक आमंत्रित नहीं किया जाएगा।

शिक्षा निदेशक (मा.) की पूर्व अनुमति के बिना नए व्यावसायिक शिक्षक को नहीं रखा जाएगा। तीन अक्टूबर को लखनऊ में होने वाली वेतन समिति की बैठक में प्रदेशाध्यक्ष तेज बहादुर व महामंत्री श्रीनारायण चतुर्वेदी सातवें वेतन आयोग के अनुरूप इंटरमीडिएट स्तर पर 40 हजार रुपए तथा हाईस्कूल स्तर पर 30 हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय करने की मांग करेंगे।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट