गरीबों का फल खरीदना नवरात्र में महंगाई के कारण हुआ मुश्किल

बिजनौर। शारदीय नवरात्र की पूर्व संध्या पर बाजार में भारी भीड़ रही। क्योंकि जैसे हिन्दू धर्म में श्राद्ध के दिनों में नई चीजों के खरीदने को उचित नहीं समझा जाता है तो बाजारों में रौनक नहीं थी। लेकिन जैसे ही शारदीय नवरात्र की शुरूआत हुई तो बाजार में पूजा सामग्री एवं खाद्य सामग्री खरीदने के लिये भारी भीड़ रही। इस त्यौहार पर खासतौर पर यह देखा गया है कि जहां तक हम फलों की ही बात करें तो फलों के दामों में एक भारी उछाल आया है।




किसी भी फल पर 10-20 रुपये प्रतिकिलो का इजाफा बाजार में देखा गया है एक दिन पूर्व एवं आज के ताजा भाव पर आज नजर डालेंगे तो यह फर्क आपको खुद दिखाई देगा। यह है आज के ताजा भाव। 29 सितम्बर के भाव 1 अक्टूबर के भाव केला 20-30 रु.प्रति दर्जन 40-50 रु. प्रति दर्जन सेब 60-80 रु. प्रति किलो 100-120 रु. प्रति किलो अनार 80-100 रु. प्रतिकिलो से लेकर 100-120 रु. प्रतिकिलो बिक रहा है।

पपीता 30-40 रु. प्रतिकिलो 40-50 रु. प्रतिकिलो अमरुद 20-30 रु. प्रति किलो 35-40 रु. प्रति किलो कीवी 30-40 रु. प्रति पीस 50-60 रु. प्रति पीस (यह सभी दरें फल विक्रेताओं रियासत अहमद एवं अन्य फल विक्रेताओं से बात करके आंकड़े एकत्रित किये गये हैं।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट