डीएम ने सीएमओ को मानक से कम प्रगति पाये जाने पर फटकार लगाई

बिजनौर। जिला अधिकारी जगतराज ने विकास कार्याे की मासिक समीक्षा के दौरान लगभग सभी स्वास्थ्य कार्यक्रमों में मानक से कम प्रगति पाये जाने पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी के विरूद्व चेतावनी जारी करने तथा उनके खिलाफ शासन को पत्र लिखने के निर्देश दिये। इसी प्रकार जननी एवं शिशु सुरक्षा योजना, टीकाकरण, आशाओं का भुगतान आदि उन्होनंे स्पष्ट करते हुए कहा कि विकास कार्याे की प्रगति में शिथिलता एंव लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी और न ही कार्य में गुणवत्ता और मानक के साथ खिलवाड़ की अनदेखी की जाएगी।

जिलाधिकारी जगतराज आज शाम विकास भवन के सभागार में आयोजित विकास कार्याे की बैठक की समीक्षा करते हुए उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थ्ेा। उन्होनंे कहा कि शासन विकास के प्रति गम्भीर और संवेदनशील है तथा विकास शासन की सर्वाेच्च प्राथमिकताओं में से है और प्रदेश को विकसित प्रदेश की श्रेणी में लाने के लिए कटिबद्व है। अतः कोई भी अधिकारी विभागीय लक्ष्य के सापेक्ष लापरवाही न करें और सभी कार्याे को पूर्ण गुणवत्ता के साथ निर्धारित समय सीमा में पूरा करना सुनिश्चित करें। उन्होनंे समीक्षा करते हुए पाया कि राष्ट्रीय खाद्यय योजना अधिनियम-2013 में नगरीय क्षेत्र में कार्य पूरा कर लिया गया है जबकि ग्रामीण क्षेत्र डिजिटाईज्ड कार्डाे एवं यूनिटों का कार्य प्रगति पर है। उन्होनंे जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिये कि ग्रामीण क्षेत्र में भी कार्य की रफतार को तेज कर इसी माह में शत प्रतिशत कार्य पूरा कर लिया जाए।



समीक्षा के दौरान बेसिक शिक्षा विभाग में विभागीय योजना समाजवादी पौष्टिक आहार योजना के तहत प्राथमिक विद्यालयों में उपस्थिति के सापेक्ष मध्यान्ह भोजन से लाभान्वित छात्रों की प्रगति में अपेक्षित सुधार न होने, उद्यान विभाग की प्रगति 40 प्रतिशत, स्वास्थ्य विभाग के तहत विभागीय निर्माण के अपूर्ण कार्य के अलावा जननी सुरक्षा योजना में लाभार्थियों को भुगतान, जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम, बाल स्वास्थ्य गारन्टी योजना, नियमिति टीकाकरण योजना, परिवार नियोजन योजना आदि की प्रगति में भारी कमी, लोनिवि में 50 लाख से अधिक लागत की सड़क निर्माण में पूर्ण परियोजनाओं की प्रगति मात्र 20 प्रतिशत, जल निगम विभाग की रिबोर हैण्डपम्पों की प्रगति 16 प्रतिशत, राजस्व विभाग में आम आदमी बीमा योजना में प्रगति लगभग 4 प्रतिशत, छात्रवृत्ति, मृत्यु दुर्घटना एवं अपंगता दावों के विवरण के सापेक्ष प्रगति 10 प्रतिशत पायी गयी।

उन्होनें सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों को आगामी माह तक मण्डल में जिला बिजनौर को सम्मानजनक स्थिति में लाने के लिए सभी आवश्यक कार्य एवं प्रयास करने के निर्देश देते हुए चेतावनी दी कि उन विभागीय अधिकारियों के विरूद्व कार्यवाही अमल में लायी जाएगी, जिन्होंने अपने विभागीय कार्याे की प्रगति में अपेक्षित प्रगति नहीं की। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा0 इन्द्रमणि त्रिपाठी, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी अमित कुमार सहित सभी विभागीय अधिकारी मोजूद थे।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट



Loading...