बसपा ने बौखलाकर बदला छह माह में तीसरा प्रत्याशी, कार्यकर्ता नाराज

बिजनौर/नगीना। बसपा का छह महीने में तीसरा टिकट दिये जाने से बसपा के वोटरों में भारी रोष व्याप्त हो चला है। दलितों में खासकर टिकट के बार बार बदलने को लेकर भारी रोष उत्पन्न हो चला है। दर्जनों गांवों के हजारों दलितों का कहना है कि नगीना से स्थानीय नेता को टिकट होना चाहिए था। वीरेन्द्र पाल जो कि अब बसपा के तीसरे प्रत्याशी के रूप में घोषणा हुई है बिजनौर रह रहे हैं। इससे पूर्व पूर्व विधायक शीशराम नजीबाबाद के निवासी थे। उससे पूर्व रामेश्वरी के सुपुत्र दीपक अफजलगढ़ क्षेत्र के निवासी थे।



अब लोगों का कहना है कि वीरेन्द्र का भी टिकट कटने की संभावनाएं भी बढ़ गई हैं। क्योंकि बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने इस प्रत्याशी के नाम की घोषणा बताये नगीना के गजरौला के एक होटल में बुलाकर की है। जिसकी आम वोटरों को अवगत तक नहीं है। लोगों का कहना है कि बसपा के उच्च पदों पर बैठे पदाधिकारी खुद ही नगीना की सुरक्षित सीट की कवर खोदते दिखाई दे रहे हैं।

आम जनता का खुलेआम कहना है कि नगीना सीट पर अभी चुनाव तक कितने प्रत्याशी बदले जायेंगे। यह तो नेतागण ही जाने। बहरहाल बार बार बसपा का टिकट बदला जाना यह साबित करता है कि यदि बसपा के पास चुनाव लडने के लिये कोई मजबूत उम्मीदवार नहीं या फिर बसपा छोड़ रही नेताओं की उस बात में दम है बसपा के बड़े नेता टिकटों की बोली लगाते हैं।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट