सीएमओ की लापरवाही से इलाज करते-करते डा0 नवीन मलेरिया की चपेट में

बिजनौर/नगीना। सीएचसी नगीना में प्रभारी डाक्टर नवीन व ईश्वरचंद दो डाक्टर तैनात हैं। किंतु कुछ जानलेवा बुखार के मरीजों की भारी भीड़ उमडने से तथा 24 घंटों में 20 घंटे मरीजों की सेवा में लगा रहे डाक्टर नवीन भी अब मलेरिया की चपेट में आ गये हैं।




नगीना तहसील गंभीर बुखार की चपेट में है और डाक्टर मरीजों को देखते देखते खुद मरीज बन चुके हैं। नगीना नगरवासी तथा ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का खुलेआम कहना है कि जहां नगीना विधानसभा के खादीधारी नेता निकम्मे हैं वहीं स्वास्थ्य विभाग के मुख्य चिकित्साधिकारी भी इस सीएचसी के साथ सौतेला व्यवहार कर रहे हैं। दो डाक्टर होने पर भी नगीना प्रभारी डाक्टर नवीन की डयूटी किसी भी दिन पोस्टमार्टम में लगायी जाती है और सीएचसी डाक्टरहीन होकर रह जाती है बिजनौर सीएमओ डाक्टर सुखवीर सिंह ने क्षेत्र के हजारों लोगों ने मांग की है कि सीएचसी में अभी दो डाक्टरों की और आवश्यकता है लेकिन यहां अच्छे भले डाक्टरों की नियुक्ति होनी चाहिए।



ऐसे डाक्टर की नहीं जैसा पूर्व सीएचसी प्रभारी था। आशिक मिजाज और शराबी। लोगों का कहना है कि डाक्टर रोहताश ने अपने डेढ़ वर्ष पहले हुए स्थानान्तरण के बाद सरकारी कमरे में कुंडली मारकर वहां डाक्टर रोहताश ने सामान निकालकर सरकारी आवास तो खाली कर दिया है। लेकिन अभी भी सरकारी कमरे में उसका मोह समाप्त नहीं हुआ है। क्योंकि सरकार कमरे की चाबी आज भी उसी के पास है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट

बिजनौर/नगीना। सीएचसी नगीना में प्रभारी डाक्टर नवीन व ईश्वरचंद दो डाक्टर तैनात हैं। किंतु कुछ जानलेवा बुखार के मरीजों की भारी भीड़ उमडने से तथा 24 घंटों में 20 घंटे मरीजों की सेवा में लगा रहे डाक्टर नवीन भी अब मलेरिया की चपेट में आ गये हैं। नगीना तहसील गंभीर बुखार की चपेट में है और डाक्टर मरीजों को देखते देखते खुद मरीज बन चुके हैं। नगीना नगरवासी तथा ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का खुलेआम कहना है कि जहां नगीना…
Loading...