कोर्ट ने किया मिलावट करने वाले 13 लोगों पर जुर्माना

बिजनौर। खाद्य पदार्थों में मिलावट करने के मामले में अपर जिला मजिस्ट्रेट की कोर्ट ने 13 लोगों पर 20 से 25 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया है। खाद्य पदार्थों के लिए गए नमूनों में मिलावट की पुष्टि होने के बाद कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराया गया था।




अपर जिला मजिस्ट्रेट प्रशासन राममूर्ति मिश्रा की कोर्ट ने मिलावटखोरी के 13 मामलों में जुर्माना लगाया है। ग्राम कामराजपुर निवासी इलियास के पास से लिए गए सफेद रसगुल्ले, मोहल्ला कुरैशियान जलालाबाद निवासी सलीम तथा गजरौला शिव निवासी ओमपाल के पास से लिए गए मावे के नमूने फेल पाए गए थे। इसके अलावा कोतवाली देहात से लवलेश कुमार का बरफी, सचिन विश्नोई का सफेद रसगुल्ले, पूर्वी लाडपुरा किरतपुर के प्रमोद कुमार का सफेद रसगुल्ला, लोहियान धामपुर के राजकुमार का पनीर, नांगल के कामराजपुर के तैयब का बरफी, इस्लामनगर स्योहारा निवासी मरगूबुर्रहमान का बरफी, मोहल्ला सेवाराम नजीबाबाद से मोहम्मद साइमान का दही का नमूना फेल पाया गया।

इन सभी पर 25-25 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इसके अलावा मोहल्ला बड़वान धामपुर निवासी केशू, जटपुरा बौंडा निवासी मोहम्मद खुर्शीद, मौज्जमपुर सादात नजीबाबाद निवासी अजय कुमार के पास से दूध का नमूना लिया गया था। जांच में इनके नमूने भी फेल पाए गए। इन पर 20-20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।



उधर जून 2016 में नंदी स्वीट्स से बरामद किए 37 गैस सिलेंडरों को जिला मजिस्ट्रेट जगतराज त्रिपाठी ने सरकार के पक्ष में जब्त करने के आदेश दिए हैं। इन सिलेंडरों में 27 कामर्शियल तथा दस सिलेंडर घरेलू गैस के हैं। इसके अलावा एक भऋी तथा रेगुलेटर आदि भी कब्जे में लिया गया था।

जिला प्रशासन के निर्देश पर पूर्ति विभाग की टीम ने नुमाइश ग्राउंड के पास स्थित नंदी स्वीट्स पर छापेमारी कर 37 गैस सिलेंडर बरामद किए थे। नंदी स्वीट्स के मालिक इन सिलेंडरों के संबंध में कोई दस्तावेज नहीं दिखा पाए थे। इस मामले में आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया। जिला मजिस्ट्रेट जगतराज ने बरामद सिलेंडरों, भऋी तथा रेगुलेटर आदि को जब्त करने के आदेश दिए हैं।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट