काले धन की मुख्यमंत्री द्वारा वकालत करने पर नाराजगी जताई

बिजनौर। मुख्यमंत्री के लिए काले धन की वकालत करना शर्म की बात है। यह बात पूर्व राज्यमंत्री(दर्जा प्राप्त) एवं मनोरंजन कर विभाग के सलाहाकार ओमपाल सिंह नेहरा ने प्रेस को जारी वक्तव्य ने कही। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के उस बयान की निन्दा की जिसमें उन्होंने कहा था कि श्मंदी के दौर में काले धन की अर्थव्यवस्था की रक्षा होती है्य। श्री नेहरा ने कहा कि यह सामान्य बात है कि जब आमजन की क्रय शक्ति श्रीण होती है, तभी आर्थिक मंदी का दौर प्रारम्भ होता है। कुछ लोगों की दौलत के आधार पर देश की आर्थिक व्यवस्था नहीं चल सकती।




किसान, मजदूर व आमजन की क्रय शक्ति से ही बाजार चल सकते हैं। उन्होंने कहा कि जिस कुर्सी पर गोविन्द बल्लभ पंत, चन्द्रभान गुप्त, चैधरी चरण सिंह जैसे महान लोग बैठे हो, उस पर बैठ कर नौजवान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव काले धन की वकालत करें, यह शर्म की बात है। समाजवादी पार्टी गरीब व अमीर के अन्तर को कम करने के लिए समर्पित है, इसके बावजूद कालेधन व भ्रष्टाचार का पोषण करना निन्दनीय है। चीनी के दाम 24 रूपए से बढ़ाकर 40 रूपए करने के बावजूद अखिलेश सरकार ने मिल मालिकों का लगभग सात सौ करोड़ का ब्याज माफ कर दिया। उन्होंने सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव से अपील करते हुए कहा कि ऐसी बयानबाजी पर रोक लगाए, क्योंकि समाजवादियों का चेहरा काले धन के रक्षक के रूप में नहीं बल्कि भ्रष्ट व्यवस्था पर आक्रमण करने वाला होना चाहिए।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट