इलाज के लिए बैंक से पैसे निकालने पहुंचे अधेड़ की मौत, परिजनों में कोहराम

बिजनौर/नगीना। एसबीआई की नगीना शाखा से अपने तथा अपनी पत्नी के साथ अपने खाते से इलाज के लिये पैसे निकालने आये व्यक्ति की बैंक के सामने मौत हो गयी। हालांकि बैंक कर्मियों ने उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसके खाते से भुगतान कर दिया था। परिजन उसका शव लेकर घर चले गये।




मौहल्ला लालसराय निवासी मेहर सिंह 60 वर्ष सभासद बदर मुनीम के यहां प्राइवेट नौकरी करता था तथा वो काफी समय से बीमार चल रहा था। वह इलाज के लिये अपने खाते में जमा 2200 रुपये में से पैसे निकालने लगभग 12 बजे एसबीआई शाखा पहुंचना था तथा उसकी पत्नी ब्रजवाला तथा बेटा भूरा उसके साथ गये थे। उसकी हालत नाजुक देखते हुए बैंक कैशियर अशोक कुमार ने उसका शीघ्र भुगतान कर दिया लेकिन इसी बीच अचानक मेहर सिंह की तबियत बैंक के गेट के सामने ही बिगड़ गयी और उसकी वहीं मौत हो गयी।




उसके बेटे भूरे सिंह ने बताया कि पैसे मिलते ही पिता की मौत हो गयी। बेटे ने कहा कि वो पैसा निकालने के बाद पैसे का उपयोग बीमारी के लिये नहीं कर पाया और पिता का शव अपनी मां के साथ घर लेकर चला गया। शव घर पहुंचते ही घर में कोहराम मच गया।

Bijnor News 498 :

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट

बिजनौर/नगीना। एसबीआई की नगीना शाखा से अपने तथा अपनी पत्नी के साथ अपने खाते से इलाज के लिये पैसे निकालने आये व्यक्ति की बैंक के सामने मौत हो गयी। हालांकि बैंक कर्मियों ने उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसके खाते से भुगतान कर दिया था। परिजन उसका शव लेकर घर चले गये। मौहल्ला लालसराय निवासी मेहर सिंह 60 वर्ष सभासद बदर मुनीम के यहां प्राइवेट नौकरी करता था तथा वो काफी समय से बीमार चल रहा था। वह इलाज के लिये अपने खाते में जमा 2200 रुपये में से पैसे निकालने लगभग 12 बजे एसबीआई शाखा पहुंचना था तथा उसकी पत्नी ब्रजवाला तथा बेटा भूरा उसके साथ गये थे। उसकी हालत नाजुक देखते हुए बैंक कैशियर अशोक कुमार ने उसका शीघ्र भुगतान कर दिया लेकिन इसी बीच अचानक मेहर सिंह की तबियत बैंक के गेट के सामने ही बिगड़ गयी और उसकी वहीं मौत हो गयी। उसके बेटे भूरे सिंह ने बताया कि पैसे मिलते ही पिता की मौत हो गयी। बेटे ने कहा कि वो पैसा निकालने के बाद पैसे का उपयोग बीमारी के लिये नहीं कर पाया और पिता का शव अपनी मां के साथ घर लेकर चला गया। शव घर पहुंचते ही घर में कोहराम मच गया।बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट