मत के प्रयोग से ही लोकतांत्रिक व्यवस्था को शक्ति प्रदान होती है: डीएम

बिजनौर। जिलाधिकारी जगतराज ने स्वीप कोऑडिनेटर को निर्देश दिये कि वे मताधिकार के सदुपयोग के प्रति समाज में जागरूकता पैदा करें और बतायें कि मत के प्रयोग से किसी प्रकार लोकतांत्रिक व्यवस्था को शक्ति प्रदान होती है और किस प्रकार स्टेबिल सरकार वजूद में आती है। उन्होनें कहा कि हर वोट का एक महत्व है, और उसका आभास तब होता है, जब एक वोट से सरकारें बनती और बिगड़ती हैं। उन्होनें कहा कि यदि देश की युवा पीढ़ी संकल्प ले कर अपने वोट के अधिकार का प्रयोग धर्म, सम्प्रदाय, वर्ग, जाति, भाषा आदि से ऊपर उठ कर देश की लोकतात्रिक प्रणाली को स्वस्थ और सशक्त बनाने के लिए करेंगे तो वह दिन बहुत जल्द सामने आ जाएगा जब जनसामान्य नैतिक, शिक्षित और देशभक्त लोगों को अपने देश की बागडौर सौंपगें।



जिलाधिकारी जगतराज आज विकास भवन के सभागार में आयोजित मतदाता जागरूकता से संबंधित बैठक की अध्यक्षता करते हुए अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होनें कहा कि मतदान के द्वारा एक जिम्मेदार नागरिक अपने देश की लोकतांत्रिक प्रणाली को सशक्त बनाने में अपने मताधिकार का प्रयोग करता है, ताकि देश में समृद्वि, शांति और परस्पर सहायोग की भावना को बल मिलत रहे। उन्हेानें स्कूल के अध्यापकों और छात्र एवं छात्राओं का आहवान किया कि अपने कालेजों और विद्यालययों, ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में जनसामान्य को मत के अधिकार के प्रति जागरूक करने का प्रयास करें, उनको मत का महत्व और उसकी गरिमा से परिचित करायें।




उन्होनें युवाओं का आहवान किया कि अपना वोट निश्चित रूप से डाले और धर्म, क्षेत्र, भाषा, वर्ग, सम्प्रदाय आदि से ऊपर उठ कर अपने मत के अधिकार का प्रयोग करें ताकि देश की लोकतांत्रिक प्रणाली स्वस्थ और अधिक सशक्त और स्वस्थ हो सके। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा0 इन्द्रमणि त्रिपाठी, जिला विद्यालय निरीक्षक अरूण कुमार के अलावा अन्य अधिकारी तथा स्वीप कॉआरडिनेटर मौजूद थे।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट