नशे में चूर दरोगा ईवीएम की सुरक्षा कर रहे दरोगा से भिड़ा, मुकदमा दर्ज

बिजनौर। अंगूरी का नशा भी अजीब होता है, इसके नशे में इंसान जो नहीं करना चाहिए वह भी कर देता है। बीती रात्रि भी कुछ ऐसा ही हुआ। अंगूरी के नशे ने खाकी को खाकी से ही लड़ा दिया। नशे में चूर एक दरोगा व उसका साथी सैन्ट्रल वेयर हाऊस में ईवीएम की सुरक्षा में तैनात एक दरोगा से भिड़ गए। मौके पर अन्य पुलिसकर्मियों को आता देख नशे में धुत दरोगा तो गाड़ी लेकर मौके से फरार हो गया, लेकिन पुलिसकर्मियों ने उसके साथी को दबोच लिया। पुलिस ने इस मामले में दरोगा व हिरासत में लिए गए उसके साथी के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने आदि की संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।




उपनिरीक्षक सत्यवीर सिंह की मंगलवार को सैन्ट्रल वेयर हाऊस में रखी ईवीएम की सुरक्षा में ड्यूटी लगाई गई थी। वह रात्रि आठ बजे से सुबह आठ बजे तक सैन्ट्रल वेयर हाऊस के मुख्य गेट पर ड्यूटी कर रहे थे। रात्रि करीब साढ़े आठ बजे एक लाल रंग की गाड़ी संख्या यूपी 16 बीएल 0345 गेट के पास आकर रूकी। गाड़ी में दो लोग बैठेे हुए थे। आरोप है कि उपनिरीक्षक सत्यवीर सिंह ने उनसे गाड़ी हटाने को कहा तो दोनों गाड़ी से उतरे और वहां से गाड़ी हटाने से साफ इंकार कर दिया। काफी समझाने के बाद भी वे नहीं माने और उल्टा उनसे झगडने लगे।




शोर सुनकर ड्यूटी कर रहे अन्य पुलिसकर्मी मौके पर पहुंच गए। पुलिसकर्मियों को आता देख एक व्यक्ति तो गाड़ी लेकर मौके से भाग गया, लेकिन पुलिसकर्मियों ने उसके साथी को दबोच लिया। मामले की सूचना मिलते ही थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और पकड़े गए व्यक्ति को थाने ले गई। पूछताछ के दौरान उसने अपना नाम नजीबाबाद के ग्राम श्रवणपुर निवासी ब्रजवीर सिंह पुत्र शिवनाथ सिंह तथा भागने वाले साथी का नाम गांव का ही निवासी महिपाल सिंह पुत्र गंगाराम सिंह बताया। पुलिस के अनुसार महिपाल सिंह पुलिस में दरोगा है और वर्तमान में नोएडा में तैनात है। पुलिस ने इस मामले में सत्यवीर सिंह की तहरीर पर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस पकड़े गए ब्रजवीर को कोर्ट में पेश किए जाने की तैयारी कर रही है।