शेख खलीलुर्रहमान की मेहनत से होली पर नगीना की फिजा बिगाडने की कोशिश नाकाम

बिजनौर/नगीना। होली रंग के जुलूस में शरारती तत्वों ने मस्जिद पर रंग डाल दिया जिससे शहर की फिजा बिगड़ने लगी और हजारों लोग थाने के गेट पर जमा हो गये और नगर में तरह तरह की अफवाहे फैलने लगी। लोगो की भीड देखकर पुलिस प्रशासन के हाथ पैर फूल गये ऐसे में एक बार फिर चेयरमैन शेख खलीलुर्रहमान ने अपने समर्थकों के साथ पहुंचकर मामले को संभाला और अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील के साथ जमा हो रहे युवाओं को समझा बुझाकर शान्त किया। भारी भीड़ को बामुश्किल काबू करते हुए एक बार फिर चेयरमैन खलीलुर्रहमान ने साबित कर दिया कि वे अमन के मसीहा है। जबकि ऐसे माहौल में कुछ लोगों ने घटिया राजनीति करने की कोशिश जिसे शहर की जनता और प्रशासन ने पूरी तरह नाकाम कर दिया। पुलिस इस मांमले में अज्ञात लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कर्रावाही शुरु कर दी है।



नगीना में होली का त्यौहार हर वर्ष काफी धूम धाम से मनाया जाता है गंगा जमुनी संस्कृति का शहर नगीना जहां रंग में सराबोर था और हिन्दू मुसलमान एक दूसरे को बधाइयां दे रहे थे वहीं कुछ शरारती तत्वों ने रंग के जुलूस में शहर की फिजा खराब करने के लिये शहर के बीचोबीच एक मस्जिद पर रंग डाल दिया जिसकी खबर लगते ही शहर में तरह तरह की अफवाहें फैल गई और आक्रोशित लोग थाने के गेट पर शरारती तत्वों के विरूद्ध कार्रवाही की मांग करते हुए जमा हो गये। बढ़ती आक्रोशित भीड़ और तरह तरह की अफवाहों से प्रशासन के भी हाथ पैर फूल गये। ऐसे में चेयरमैन शेख खलीलुर्रहमान ने अपने समर्थको के साथ मौके पर पहुंच कर बामुश्किल आक्रोशित लोगों को समझाया। चेयरमैन खलीलुर्रहमान के समझाने एंव कार्रवाही के आश्वासन के बाद लोग माने और देर रात अपने अपने घरों को लौट गये। जबकि शहर में बात बात पर राजनीति करने वाले सपा विधायक मनोज पारस नदारद रहे जिस कारण गुस्साई भीड ने मनोज पारस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए खूब खरीखोटी सुनाई।

उधर नगर में चर्चा है कि मनमाफिक कार्रवाही न होने से नाराज सपा विधायक मनोज पारस पहले से ही नगीना कोतवाल राजेन्द्र कुमार नागर से रंजिश रखता है उसने पहले भी कोतवाल को हटवाने के लिए आलाधिकारियों से लेकर चुनाव आयोग तक से झूठी शिकायतें की लेकिन जांच में सभी शिकायते झूठी पायी गई। घटिया सोच रखने वाले लोगो ने इस घटना को भी राजनीतिक रुप देने का प्रयास किया ताके किसी तरह कोतवाल राजेन्द्र नागर इस घटना के लपेटे में आ जाये लेकिन ऐसे सोच रखने वाले लोग अपने मकसद में कामयाब नही हो सके। मांमला शांत होने के बाद पुलिस अधिकारियों के सामने थाने राजनीति चमकाने पहुंचे कई सपा नेता को लोगों के आक्रोश का सामना तो करना पड़ा ही साथ ही पुलिस प्रशासन ने भी इन नेताओ को आईना दिखाते हुए सर्वाजनिक रुप से चेयरमैन खलीलुर्रहमान के इस अच्छे कार्य की प्रशंसा की जिससे सभी नेताओं के चेहरे उतर गये।




मांमला शांत कराने से खलीलुर्रहमान ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वे अमन के मसीहा है और हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल है। शहर में शांती होने के बाद पुलिस प्रशासन ने भी राहत की सांस ली वहीं असमाजिक तत्वों के इस कारनामें की वजह से नगर एक बार फिर किसी अनहोनी से बच गया। पुलिस ने इस मांमले में अज्ञात लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कर्रावाही शुरु कर दी है। समाचार लिखे जाने तक सुरक्षा के मददेनजर नगर में भारी पुलिस बल मौजूद रहा।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट