अधिकारियों को निर्देश, शत प्रतिशत पूरा करें वसूली का लक्ष्य: डीएम बिजनौर

बिजनौर। अधिकारी जगतराज ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि वसूली के विभागीय वार्षिक लक्ष्य को माह के अंत तक शत प्रतिशत पूरा करना सुनिश्चित करें। उन्होनें कहा कि जिस विभाग द्वारा माह के अंत तक वसूली कार्य में गंभीरता नहीं प्रदर्शित की जाती है और मानक के अनुसार लक्ष्य को पूरा नहीं किया जाता तो उसके अधिकारी के खिलाफ शासन को लिखा जाएगा। उन्होने निर्देश दिये कि विभागीय लक्ष्य की शत प्रतिशत आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए योजनाबद्व रूप से प्रर्वतन कार्य करें, जिस से राजस्व वसूली में भी वृद्वि होगा और कर चोरी पर भी अंकुश सम्भव होगा।

जिलाधिकारी जगतराज आज कलैक्ट्रेट के सभागार में आयोजित कर करेत्तर बैठक की समीक्षा करते हुए उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। उन्होनें कहा कि शासन करापवंचन को रोकने प्रति गम्भीर और संवेदनशील है अतरू कोई भी अधिकारी वसूली के विभागीय लक्ष्य के सापेक्ष लापरवाही न करें। जिलाधिकारी जगतराज ने विद्युत, स्टाम्प तथा वाणिज्य कर विभाग द्वारा लक्ष्य के सापेक्ष वसूली कार्य न किये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए तीनों विभाग के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये कि इस माह में विभागीय मासिक और वार्षिक लक्ष्यापूर्ति करना सुनिश्चित करें और नियमानुसार इन्फोर्समेंट की कार्यवाही अमल में लायें।




समीक्षा के दौरान तहसील बिजनौर द्वारा विभिन्न देयकों में सबसे कम वसूली किये जाने पर उन्होनें तहसीलदार सदर को चेतावनी देते हुए कार्य में सुधार लाने तथा मानके के अनुरूप वसूली कार्य करने के निर्देश दिये। इसी के साथ उन्होनें सभी उप जिलाधिकारियों को कड़े निर्देश दिये कि अपने क्षेत्रांतर्गत सभी थानाध्यक्षों को सूचित कर दें कि किसी भी रूप में खनन कार्य नहीं होना चाहिए और यदि कोई व्यक्ति अवैध खनन करते हुए पाया जाए उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही करते हुए वाहन को जब्त किया जाए और सभी गतिविधियों की फोटोग्राफी भी करायी जाए।

उन्होनें कहा कि वसूली का कार्य बहुत महत्वपूर्ण है क्यों कि इसी के आधार पर विकास कार्यक्रमों तथा अन्य जन कल्याणकारी योजनाओं का संचालन होता है। अतरू कोई भी अधिकारी इस कार्य में लापरवाही न बरते। उन्होनें कहा कि जिस विभाग द्वारा राजस्व वसूली की मासिक प्रगति 95 प्रतिशत से कम पायी जाएगी, उस अधिकारी के विरूद्व चेतावनी जारी की जाएगी। समीक्षा के दौरान आबकारी विभाग द्वारा मासिक लक्ष्य के सापेक्ष मानक से कम प्रगति पाये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होनें संबंधित अधिकारी को चेतवानी देते हुए निर्देश दिये कि अपने कार्य में सुधार लाते हुए वसूली कार्य को लक्ष्य के सापेक्ष करना सुनिश्चित करें। इसी प्रकार वाणिज्य कर तथा स्टाम्प विभाग द्वारा भी लक्ष्य के विपरीत मानक से कम वसूली किया जाना प्रकाश में आया। उन्होनें दोनों विभाग के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये कि वसूूली कार्य में सुधार लायें अन्यथा उनके विरूद्व कार्यवाही की जाएगी। समीक्षा करते हुए उन्होनें परिवहन 104, मनोरंजन कर 102, आबकारी 85, निकाय 94, विद्युत देय में 65 प्रतिशत की प्रगति पायी।




उन्होनें जिला आबकारी अधिकारी एवं वाणिज्य कर विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि विगत वर्ष विभागीय लक्ष्य को पूरा नहीं किया गया था, लेकिन इस बार लक्ष्यापूर्ति में कोई कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होनें इस बात पर भी नाराजगी व्यक्त की कि प्रर्वतन कार्य किये जाने के बावजूद न तो जिले में शराब की तस्करी पर नियंत्रण प्राप्त हो रहा है और न ही राजस्व वसूली के लक्ष्य आपूर्ति हो पा रही है, जिस का सीधा सा मतलब है कि प्रर्वतन कार्य की गुणवत्ता में कमी है। उन्होनें निर्देश दिये कि प्रर्वतन कार्य को पूरी जिम्मेदारी और पारदर्शिता के साथ संचालित करें ताकि अपेक्षित नतीजे हासिल हो सकें। उन्होने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि शासन द्वारा विभागों को जो लक्ष्य आवंटित किये गये हैं, उनको पूरा करने के लिए सभी अधिकारी गम्भीरता पूर्वक कार्य करें।

उन्होंने सबंधित अधिकारियों केा निर्देश दिये कि प्रर्वतन के कार्य को गम्भीरता से लें और नियमित रूप से कार्यवाही करें। उन्होने वाणिज्य कर अधिकारियों केा निर्देश दिये कि किसी भी रूप में कर की चोरी नहीं होनी चाहिए, उसके लिए नियमित रूप से चौकिंग अभियान चलायें। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी विध्रा सुरेन्द्र राम, प्रशासन मदन सिंह गर्ब्याल के अलावा सभी उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदार तथा संबंधित विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।