भांग के ठेके पर काले सोने (सुल्फे) का कारोबार बड़े पैमाने पर, पुलिस मौन

बिजनौर/नजीबाबाद। नगर में स्थित भांग के ठेके पर काले सोने (सुल्फे) का कारोबार बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। सुल्फे की लत में पड़कर युवा पीढ़ी नशे का आदी बन रहा है। स्थानीय पुलिस प्रशासन जानकर भी अंजान बना हुआ है।




नगर मोटाआम हर्षवाड़ा मार्ग पर स्थित भांग के ठेके पर सुल्फे का कारोबार अवैध रूप से किया जा रहा है। भांग के ठेके की आड़ में चल रहे सुल्फे के कारोबार से वहां का वातावरण दूषित हो रहा है। सुल्फे की बिक्री पर प्रतिबंध होने के बाद भी भांग के ठेके पर हर समय सुल्फी के पुडि़ये लेने वालों का जमावड़ा लगा रहता है उक्त मार्ग पर दो कन्या स्कूल तथा एक एक इंटर कालेज भी है।

भांग के ठेके पर हर समय असमाजिक तत्वों के खड़े रहने से क्षेत्रवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। सूत्रों के मुताबिक भांग के ठेके की आड़ में बिकने वाले सुल्फे की एक पुडि़या की कीमत बीस से तीस रूपये वसूली जाती है। सुल्फे की पुडि़या खरीदकर युवा वर्ग नशे का आदी हो रहा है तथा अपना जीवन अन्धकारमय बनाने में लगा हुआ है।




कई बार लोगों ने इसकी शिकायत पुलिस से की मगर कारोबारियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जाती है। सूत्रों की माने तो इस कारोबार को करने वाले लोग पुलिस को सुविधा शुल्क देते है पुलिस संरक्षण मिलने पर कारोबारी बेखोफ होकर इस कारोबार को करने में लगे हुए है। नगर में भांग के ठेके की आड़ में चल रहे सुल्फे के अवैध कारोबार से स्थानीय पुलिस के आला अधिकारी अंभिज्ञता जाहिर करते है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट