मुख्यमंत्री व राज्यपाल से की कालेजों में चल रहीं गड़बड़ी पर कार्रवाई की मांग

बिजनौर/धामपुर। एकेटीयू टॉपर्स की तरफ कदम बढ़ा रहीं बी.फार्मा की छात्रा ने कालेज प्रबंधन समेत विधि पर उसके प्रथम सेमेस्टर से लेकर द्वितीय, चुतर्थ व पांचवे सेमेस्टर की उत्तर पुस्तिकाओं को मूल्यांकन करने पर सवाल उठाते हुए धांधली का आरोप लगया है। पीडिता ने प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ व राज्यपाल रामनाईक से भी मामले में हस्ताक्षेप कर इन कालेजों में चल रहीं गड़बड़ी की जांच कर कार्रवाई की भी मांग की है।



जानकारी के अनुसार थाना धामपुर के मौहल्ला गुजरातियान निवासी संगम अग्रवाल ने बताया कि उनकी बेटी प्रिंसिका अग्रवाल बिजनौर के कॉलेज से बी.फार्मा की पढ़ाई मेहनत और लगन के साथ करने में जुटी है। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी के संबंधित डिग्री के विषयों में प्रथम सेमेस्टर से लेकर पांचवी सेमेस्टर तक उत्तर पुस्तिकाओं में दिए गए नंबरों से वह संतुष्ट नहीं हैं, जिसे लेकर वह कई बार शिक्षा विभाग समेत कई प्रशासनिक अधिकारियों और वाइस चांसलर विनय पाठक से शिकायत कर चुके हैं।

इस संबंध में उन्हें एकेटीयू के वाइस चांसलर दो बार इस बावत लखनऊ भी बुला चुके हैं। मगर उनकी समस्या का समाधान अब तक नहीं हो पाया है। जबकि वह अपनी बेटी को बैंक से लोन लेकर शिक्षा दिला रहें है। कॉलेज द्वारा नंबर देने की जा रही गड़बड़ी से उनकी बेटी आहत है और बी.फार्मा की पढ़ाई भी नहीं कर पर रही है। जबकि वह अपनी मेहनत और लगन से पूरी तरह आश्वस्त है और उसे भरोसा है कि अगर उसकी कॉफी ईमानदारी से सार्वजनिक की जाएगी तो वह जनपद का नाम रोशन कर सभी विषयों में टॉपर होगी। उसके विषयों में 34-34 अंक दर्शाकर कम अंक दिय गए हैं, जिससे वह मानसिक रूप से परेशान है।




जबकि विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर उसे चेलेंच करने को कह रहे हैं, मगर उसका खर्च पांच हजार रूपये आ रहा है। जिसे कर पाने में वह असमर्थ है। पीडित ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व राज्यपाल रामनाईक से मामले को गंभीर से लेकर जांच कर कार्रवाई की गुहार की है। पीडिघ्त ने मंडलायुक्त एक वैंक्टेश्वर लूं से भी शिकायत कर पांच दिन का समय दिया है। चेतावनी दी है कि वह मजबूरन न्यायालय की शरण लेकर कार्रवाई करेंगे। उधर कमिश्नर एल वैंक्टेश्वर लूं ने शिकायत को गंभीरता से लेकर कार्रवाई का अश्वासन दिया है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट