पंचायत के करोड़ो रुपये हड़पने के बाद भी चेयरमैन आबिद अंसारी नहीं आ रहा बाज

bijnor2
पंचायत के करोड़ो रुपये हड़पने के बाद भी चेयरमैन आबिद अंसारी नहीं आ रहा बाज

बिजनौर। विकास कार्यों में करोड़ो रूपये की अनियमित्ता करके बंदरबांट कर खा जाने वाले नगर पंचायत बढ़ापुर के चेयरमैन आबिद अंसारी एक बार फिर चर्चाओं में हैं लेकिन इतनी बड़ी अनियमित्ता कर सरकारी धन का दुरुपयोग की शिकायतों के बावजूद कोई कार्यवाही न होना अधिकारियों की कार्यशैली की पोल खोल रहा है।

Bijnor Panchayat Ke Karodo Hadpne Ke Bad Chairman Abid Nhi Aa Raha Baaz :

नगर पंचायत बढापुर के चेयरमैन आबिद अंसारी का सरकारी धन की बंदरबांट कर अनियमित्ता व दुरुपयोग करने में शुरू से कार्यकाल चर्चा में रहा है। शिकायतकर्ताओं का आरोप है कि बारातघर, शमशानघाट की चहारदीवारी से लेकर सड़क बिजली पानी व अन्य विकासकार्यों के करोड़ो रूपये पर चेयरमैन आबिद अंसारी ने उस समय हाथ साफ कर दिया जब इनकी माता खतीजा बेख़म पिछले कार्यकाल में नगर पंचायत बढापुर की चेयरपर्सन थी।

भ्रष्टाचार का जायका चख चुके आबिद अंसारी को इसकी ऐसी लत लगी है कि नगरपंचायत में आने वाली चाय से लेकर बाबू और अधिकारी तथा सत्ताधारी नेताओ के नाम पर भी रुपये हड़प लिए गए और अधिकारियों की इसकी भनक तक नही लगी। इतना ही नहीं जांच होने के बाद अनियमित्ताओं की गाज जब चेयरमैन आबिद अंसारी के खास गुर्गे नगर पंचायत के बाबू सुनील पर गिरी तो आबिद अंसारी जेल जाने के डर से भूमिगत हो गया।

मांमला धीरे धीरे ठंडा होने के बाद चेयरमैन आबिद अंसारी गुजरात से आकर अपने काले कारनामों को अंजाम देने के फिराक में लग गया है। चेयरमैन आबिद अंसारी ईओ/एसडीएम परमानन्द झां को गुमराह करके अब ऐसे चैक कटवाने के फिराक में लग गया है जो विकास कार्य नगर पंचायत में हुए ही नहीं। नगर की जनता हतप्रभ है और कुछ बुद्धिजीवियों ने इसका विरोध करते हुए जिलाधिकारी व अपर जिलाधिकारी को अनियमित्ताओं की शिकायत की है अब देखना यह है कि सरकारी धन के दुरुपयोग पर प्रशासन गम्भीर होकर कार्यवाही करता है या नींद में रहकर दुरुपयोग होने देता है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट

बिजनौर। विकास कार्यों में करोड़ो रूपये की अनियमित्ता करके बंदरबांट कर खा जाने वाले नगर पंचायत बढ़ापुर के चेयरमैन आबिद अंसारी एक बार फिर चर्चाओं में हैं लेकिन इतनी बड़ी अनियमित्ता कर सरकारी धन का दुरुपयोग की शिकायतों के बावजूद कोई कार्यवाही न होना अधिकारियों की कार्यशैली की पोल खोल रहा है। नगर पंचायत बढापुर के चेयरमैन आबिद अंसारी का सरकारी धन की बंदरबांट कर अनियमित्ता व दुरुपयोग करने में शुरू से कार्यकाल चर्चा में रहा है। शिकायतकर्ताओं का आरोप है कि बारातघर, शमशानघाट की चहारदीवारी से लेकर सड़क बिजली पानी व अन्य विकासकार्यों के करोड़ो रूपये पर चेयरमैन आबिद अंसारी ने उस समय हाथ साफ कर दिया जब इनकी माता खतीजा बेख़म पिछले कार्यकाल में नगर पंचायत बढापुर की चेयरपर्सन थी। भ्रष्टाचार का जायका चख चुके आबिद अंसारी को इसकी ऐसी लत लगी है कि नगरपंचायत में आने वाली चाय से लेकर बाबू और अधिकारी तथा सत्ताधारी नेताओ के नाम पर भी रुपये हड़प लिए गए और अधिकारियों की इसकी भनक तक नही लगी। इतना ही नहीं जांच होने के बाद अनियमित्ताओं की गाज जब चेयरमैन आबिद अंसारी के खास गुर्गे नगर पंचायत के बाबू सुनील पर गिरी तो आबिद अंसारी जेल जाने के डर से भूमिगत हो गया। मांमला धीरे धीरे ठंडा होने के बाद चेयरमैन आबिद अंसारी गुजरात से आकर अपने काले कारनामों को अंजाम देने के फिराक में लग गया है। चेयरमैन आबिद अंसारी ईओ/एसडीएम परमानन्द झां को गुमराह करके अब ऐसे चैक कटवाने के फिराक में लग गया है जो विकास कार्य नगर पंचायत में हुए ही नहीं। नगर की जनता हतप्रभ है और कुछ बुद्धिजीवियों ने इसका विरोध करते हुए जिलाधिकारी व अपर जिलाधिकारी को अनियमित्ताओं की शिकायत की है अब देखना यह है कि सरकारी धन के दुरुपयोग पर प्रशासन गम्भीर होकर कार्यवाही करता है या नींद में रहकर दुरुपयोग होने देता है।

बिजनौर से शहजाद अंसारी की रिपोर्ट