1. हिन्दी समाचार
  2. ऑटो
  3. Bike Insurance: बाइक का इंश्योरेंस कराने से पहले हमेशा ध्यान रखें ये बातें

Bike Insurance: बाइक का इंश्योरेंस कराने से पहले हमेशा ध्यान रखें ये बातें

भारत में दोपहिया वाहन से होने वाली दुर्घटनाओं की संख्या सबसे अधिक है, इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने सख्त नियम भी बनाए हैं। हम दुर्घटनाओं को तो नहीं रोक सकते, लेकिन इनसे होने वाली क्षति के लिए पहले से ही तैयार हो सकते हैं।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

Bike Insurance: भारत में दोपहिया वाहन(Two Wheelar) से होने वाली दुर्घटनाओं की संख्या सबसे अधिक है, इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने सख्त नियम भी बनाए हैं। हम दुर्घटनाओं को तो नहीं रोक सकते, लेकिन इनसे होने वाली क्षति के लिए पहले से ही तैयार हो सकते हैं। वहीं दुर्घटनाओं में होने वाली अपनी क्षति या तीसरे पक्ष की क्षति के खिलाफ मोटरसाइकिल का बीमा सबसे जरूरी है। जब आप बाइक बीमा खरीदते हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि बीमा कंपनी (Bima Company)प्रीमियम की गणना कैसे करती है, और साथ ही यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको सबसे अच्छा सौदा कैसे मिल सकता है, आपको कुछ मुख्य चीजों की जानकारी आवश्यक होनी चाहिए। जिनके बारे में हम आपको यहां बताने जा रहे हैं:

पढ़ें :- अगले महीने आ रही है टाटा और मारुति की ये दो CNG कारें, शानदार है फिचर्स

Third Party Vs Comprehensive Cover: जब आप पॉलिसी खरीदते हैं, तो आप थर्ड-पार्टी बाइक इंश्योरेंस(third party Bike) का विकल्प चुन सकते हैं, जो थर्ड-पार्टी देनदारियों को कवर करता है। यह बीमा सरकार और भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण द्वारा तय किया जाता है। हालांकि, स्वयं के नुकसान कवर का प्रीमियम बीमाकर्ता द्वारा तय किया जाता है। थर्ड-पार्टी कवर हमेशा कॉम्प्रिहेंसिव कवर की तुलना में सस्ता होगा लेकिन यह खुद के नुकसान या चोरी (thief)के मामले में आपकी सुरक्षा नहीं करेगा।

वाहन डेप्रिसिएशन: जब आप अपनी बाइक की सवारी करते हैं, तो जाहिर है, कि टूट-फूट से गुजरते हैं। नतीजतन, इसका बाजार मूल्य कम हो जाता है। वाहन के मूल्य(Money) की गणना करने के लिए मोटर बीमा कंपनियों के अपने तरीके हैं। याद रखें कि आपके वाहन(BIKE) का मूल्य जितना अधिक होगा, बीमा प्रीमियम उतना ही कम होगा। यह आपके वाहन के बीमित घोषित मूल्य के साथ मिलकर काम करता है।

बीमित घोषित मूल्य: बीमित घोषित मूल्य या आईडीवी बीमा कंपनी के अनुसार आपके वाहन का वर्तमान बाजार मूल्य निर्धारित करता है। यह अधिकतम राशि है जो बीमा कंपनी आपको दावा किए जाने की स्थिति में प्रदान करेगी। आपके प्रीमियम(Premium) की गणना सीधे आपके आईडीवी के प्रतिशत के रूप में की जाती है। अच्छी बात यह है कि बीमा कंपनियां आपको अपना खुद का आईडीवी चुनने की अनुमति भी देती हैं जो पहले से तय आईडीवी की सीमा के भीतर होना चाहिए। जितना अधिक आप अपने आईडीवी (IDV)के रूप में चुनेंगे, आपका प्रीमियम उतना ही अधिक होगा।

बीमा का स्थान: बहुत से लोग इस बात के बारे में नहीं जानते हैं, कि आनकी लोकेशन का आपके बीमा पर असर भी पड़ता है। अधिकारियों के लाख प्रयासों के बावजूद, कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां वाहन चोरी और दुर्घटना दर दूसरों की तुलना में अधिक है। इसलिए, बीमा कंपनियां इन क्षेत्रों में पंजीकृत वाहनों के लिए अधिक प्रीमियम राशि वसूल करती हैं।

पढ़ें :- SUV को धड़ल्ले से खरीद रहे हैं लोग, मिल रहा है पूरे 1 लाख रुपये तक का डिस्काउंट ऑफर

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...