1. हिन्दी समाचार
  2. बॉलीवुड
  3. Birthday Special: कभी सड़क के किनारे पेन बेचने वाले Johny Lever ऐसे बने Laughter King

Birthday Special: कभी सड़क के किनारे पेन बेचने वाले Johny Lever ऐसे बने Laughter King

जॉनी लीवर (Johny Lever) आज अपना 64 वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहें हैं। जॉनी लीवर का जन्म 14 अगस्त 1957 को आंध्र प्रदेश  के कनिगिरी में हुआ था। आज हम आपको जॉनी लीवर (Johnny Lever) की बुनियादी दौर का एक ऐसा किस्सा बताएंगे जिसे जान आप भी किस्मत पर भरोषा करने लगेंगे।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

Bollywood news: कहते हैं अगर आपने मेहनत से लकीरें बदलने की सोच ली है तो किशमत भी रंक को राजा बनाने में ज्यादा वक्त नहीं लेती। दरअसल, बॉलीवुड के कई सितारे ऐसे हैं जिन्होने अपने करियर के शुरुआती दौर में हर मुश्किल को पार किया और अपनी मेहनत से हर मुसीबत को तरक्की में तब्दील कर दिया। वेल आज हम बात कर रहें हैं बॉलीवुड लाफ्टर किंग जॉनी लीवर (Johny Lever) की।

पढ़ें :- Cruise Drugs case : प्रशांत भूषण बोले- आर्यन खान केस में ऐसा कोई आधार नहीं जिस पर बेल रिजेक्ट की जा सके

जॉनी लीवर (Johny Lever) आज अपना 64 वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहें हैं। जॉनी लीवर का जन्म 14 अगस्त 1957 को आंध्र प्रदेश  के कनिगिरी में हुआ था। आज हम आपको जॉनी लीवर (Johnny Lever) की बुनियादी दौर का एक ऐसा किस्सा बताएंगे जिसे जान आप भी किस्मत पर भरोषा करने लगेंगे। क्योंकि किस्मत नहीं होती फिर सड़को पर पैन बेचने वाला जॉन प्रकाश राव (John Prakash Rao) उर्फ़ जॉनी लीवर (Johny Lever), बॉलीवुड का प्रसिद्ध कॉमेडियन नहीं कहलाता। वह फिल्म इंडस्ट्री के सबसे बड़े अवॉर्ड्स यानि फिल्म फेयर में तीन बार बेस्ट हास्य कलाकार के रूप में नहीं चुना जाता।

मगर जॉनी लीवर (Johnny Lever) की किस्मत ने रंग उस वक्त से दिखाना शुरु किया। जब उन्होंने आगे बढ़ने का सपना देखा। जॉनी, मुख्यतौर पर आंध्रप्रदेश से ताल्लुक रखते हैं मगर परिवार में आर्थिक तंगी के कारण, जॉनी छोटी उम्र में मुंबई आ गये। यहां पहुंच कर शुरु हुआ एक नया सफ़र जब जॉनी सड़कों पर पैन बेच कर, अपने भोजन का बंदोबस्त करते।

चल पड़ी किस्मत की गाड़ी

हालांकि वह पैन बेचने के लिए स्टार की मिमिक्री का सहारा लिया करते थे। उनकी इस कला ने आगे जाकर कई स्टेज शो में प्रफॉर्म भी किया। जॉनी ने हैदराबाद से लेकर मुंबई तक कई स्टेज शो किए। जिनमें उन्होंने कई शो जीते भी। जॉनी लीवर (Johny Lever) के लिए यह स्टेज शो, उनकी पहचान बनते गये। इन शो के दौरान एक बार अभिनेता सुनील दत्त (Sunil Dutt) ने उनके टैलेंट को पहचाना। इसके बाद जॉनी लीवर (Johny Lever) का बॉलीवुड में शुरु हुआ अलग सफर।


जी हां, सुनील दत्त ने जॉनी को दर्द का रिश्ता फिल्म में मौका दिया। इस फिल्म में जॉनी लीवर (Johny Lever) ने अपने बेस्ट अभिनय से लोगों का दिल जीत लिया था। मगर उन्हें सफलता फिल्म बाजीगर के बाद मिलनी शुरु हुई। जिसके बाद वह लगभग सहायक अभिनेता के तौर पर फिल्मों में काम करने लगे। जॉनी लीवर (Johny Lever) ने अपने 60 साल के करियर में अबतक 350 फिल्में की हैं।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Johny Lever (@iam_johnylever)


14 अगस्त 1957 को जन्मे जॉनी ने इन ढ़ेरो फिल्मों के लिए कई अवॉर्ड्स भी जीते। और फिल्मफेयर में तीन साल तक बेस्ट हास्य कलाकार एक्टर के रूप में अपना स्थान बरकरार रखा। जॉनी का जीवन सिर्फ फिल्मों तक ही नहीं रहा बल्कि उन्होंने वर्ष 2007 में टेलीविजन शो में जज के रूप में भी देखा गया था। साथ ही जॉनी ने तमिल की फिल्म में भी काम किया।

पढ़ें :- Drugs case: NCB Officer Sameer Wankhede की पत्नी ने ट्वीट कर किया खुलासा, कहा- हम कभी किसी दूसरे धर्म में कन्वर्ट नहीं हुए...

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Johny Lever (@iam_johnylever)


जॉनी लीवर (Johny Lever) की इस सफलता को देखकर लोगों की बात सच महसूस होती है कि किस्मत बड़ी चीज़ है। मगर किस्मत से अधिक आंध्र प्रदेश से मुंबई आया, वह बालक जो सड़कों में रोजी-रोटी के लिए पैन बेच कर अपना पेट भर रहा था। उसके द्वारा की गयी कड़ी मेहनत व मिमिक्री के प्रति लगन को सलाम ।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...