बिसाहड़ा कांड: जेल में अधिकारी ने रवि को दी घोर यातनाएं




ग्रेटर नोएडा: गौतमबुद्ध नगर जेल में बिसाहड़ा कांड के आरोपी बंदी रवि के मौत के बाद नित नए मामले उजागर हो रहे हैं। बिसाहड़ा कांड मामले में जेल में बंद आरोपी रवि की मौत के बाद ग्रामीण और परिजन लगातार जेल में घोर यातना दिए जाने का आरोप लगा रहे हैं। अब प्रदेश के कारागार मंत्री ने भी उस पर मुहर लगा दी। उन्होंने कहा कि जेल में रवि को एक अधिकारी ने 100-200 उठक-बैठक कराईं, जिससे उसके फेफड़े में पानी भर गया। इस कारण उसकी मौत हुई। प्रदेश कारागार मंत्री बलवंत सिंह रामूवालिया ने कहा कि न्यायिक जांच चल रही है। दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

रवि की मौत के बाद यहां तैनात दो जेलरो पर मारपीट व वसूली के आरोप लगे। इस पर दोनों अधिकारियों को मुख्यालय से संबद्ध कर दिया गया। अस्पताल में दवाई व उपचार के नाम पर वसूली का आरोप बंदियों ने लगाया है। अब जेल प्रशासन पर उनके ही विभाग के कुछ लोगों ने कमीशन के पैसे के बंटवारे को लेकर षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया है। नाम न छापने के शर्त पर एक अधिकारी ने आरोप लगाया है कि यहां बाहर से आने वाले सामानों पर मोटी रकम कमीशन के रूप तय होती है। इस रकम की बंदरबांट की जाती है। डिप्टी जेलर से लेकर जेल के वरिष्ठ अधिकारियों तक इसका हिस्सा बंटा हुआ है। बीते पांच माह से बजट नहीं होने के कारण बाहर से खरीदे गए सामानों के बिलों का भुगतान नहीं किया गया था। कुछ दिन पूर्व ही पांच माह का बजट एक साथ दिया गया है। इससे लाखों रुपये जेल प्रशासन के जेब में कमीशन के रूप में आया है।

आरोप है कि जेल के वरिष्ठ अधिकारी सत्ता की हनक दिखा कर कमीशन के मोटी रकम को हजम करना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने अपने ही दो अधिकारियों के खिलाफ षड्यंत्र रच कर उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया। दोनों अधिकारी कमीशन की रकम में बराबर के हिस्सेदार थे। आरोप है कि जेल में आपूर्ति होने वाले हर सामान पर कमीशनबाजी का खेल चल रहा है। पांच माह का बजट आते ही षड्यंत्र का खेल शुरू हो गया। आरोप है कि वरिष्ठ अधिकारी अपने चहेते बंदियों से मारपीट का आरोप लगा कर रास्ते का कांटा हटा दिया है। वह अकेले हिस्से की रकम को हड़पना चाह रहे हैं। इसके लिए वह सत्ता पक्ष से नजदीकी का हनक दिखाने से भी नहीं चूक रहे। आरोप है कि वसूली के लिए वरिष्ठ अधिकारी ने जेल के बाहर कुछ गुर्गें भी पाल रखे हैं। जो जेल के बाहर भी वसूली करते हैं।

आम आदमी पार्टी ने रवि के परिजनों को एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने व लुक्सर जेल में कैदियों पर अत्याचार की सीबीआई जांच कराने की मांग की है। रविवार को पार्टी की जिला कार्यकारिणी की बैठक में ये मांगें उठाई गईं। बैठक में उमेश गौतम, राकेश शिशौदिया, सलमू सैफी, सविता शर्मा, राहुल सेठ, अनिल कुमार, इमरान नंबरदार आदि पदाधिकारी मौजूद रहे।

भाजपा के प्रदेश महामंत्री अशोक कटारिया ने कहा कि विचाराधीन मामले में जेल में न्याय के इंतजार में बंद युवक की जेलर ने पीटकर मौत के घाट उतराने से प्रदेश सरकार की पोल खोल दी है। मामले में दोषी जेलर के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जरूरत है। अशोक कटारिया रविवार को बिसाहड़ा गांव में रवि के परिवार के लोगों को सांत्वना देने पहुंचने से पहले ग्रेटर नोएडा में मीडिया से बातचीत में कहा कि जेल में सरकार के नुमाइंदों ने युवक को बेरहमी से पीटा है, जिससे उसकी मौत हुई।

सरकार को गलत नजर नहीं आता है। सरकार को मामले ने बेनकाब किया है। उन्होंने कहा कि एक साल पहले घटना के दौरान मौके से जो मांस बरामद हुआ। उसकी सरकार की ही लैब में फारेंसिंक जांच कराई गई। जांच में बीफ की रिपोर्ट आई। उसको भी सरकार मानने के लिए तैयार नहीं है। गोहत्या करने वालों के खिलाफ सरकार कार्रवाई नहीं करना चाह रही। गोहत्या के मामला कोर्ट के आदेश पर दर्ज किया गया, लेकिन सरकार के इशारे पर मामले को दबाया जाता रहा है। अभियुक्त सरेआम घूम रहे हैं। बिसाहडा मामले में भाजपा समेत दूसरे दलों के दबाव में प्रदेश सरकार ने रवि के परिवार को आर्थिक मदद देने समेत मांगों को मानी है।

इसके बाद भाजपा के महामंत्री बिसाहडा गांव पहुंचे। वहां पर रवि के परिवार के लोगों को सांत्वना दी। उनका कहना है कि इस मामले में भाजपा परिवार के साथ है। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष विजय भाटी, किसान मोर्चा के प्रदेश मंत्री सुभाष भाटी, पूर्व जिलाध्यक्ष हरीश ठाकुर, महामंत्री सेवानंद शर्मा, जिला उपाध्यक्ष मुकेश नागर, आनंद भाटी, चेनपाल प्रधान समेत भाजपाई मौजूद थे।