कांग्रेस को जल्द ही पता चल जाएगी उसकी सही हैसियत: भाजपा

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करने वाले कांग्रेस एवं उसके सहयोगी दलों पर पलटवार करते हुए कहा कि टू-जी, कोयला, हेलीकॉप्टर, आदर्श सोसाइटी, सारदा, नारदा जैसे देश के सबसे बड़े घोटालों को प्रोत्साहन देने वाले देश को ईमानदार बनाने के पहलकर्ता मोदी से इस्तीफा मांग रहे हैं। केंद्रीय मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को कहा कि यह स्थिति कितनी हास्यास्पद हो गई है कि पिछले दशक में कांग्रेस के शासनकाल में टू-जी, कोयला, हेलीकॉप्टर, आदर्श सोसाइटी, सारदा, नारदा जैसे घोटाला करने वाले और उन्हें प्रोत्साहन देने वाले आज मोदी पर हमला कर रहे हैं कि उन्होंने नोटबंदी क्यों की।




प्रसाद ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से सवाल किया कि 10 साल तक उनकी पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार पृवी के हर हिस्से में भ्रष्टाचार कर रही थी तो वह पूरे समय खामोश क्यों बने रहे। उन्होंने गांधी और उनकी पार्टी पर भ्रष्टाचार के सबसे बड़े संरक्षक होने का आरोप लगाते हुए दावा किया कि टू-जी घोटाले की जांच के लिए गठित संयुक्त संसदीय समिति के काम में व्यवधान डाल कर जांच को प्रभावित करने का प्रयास किया गया था।

स्विस बैंकों में काला धन रखने वालों की वहां की सरकार से प्राप्त सूची को सार्वजनिक करने की मांग पर उन्हें घेरते हुए केंद्रीय कानून मंत्री ने कहा कि स्विस सरकार के साथ समझौता हुआ है कि काला धन रखने वालों के नाम आरोपपत्र दाखिल होने के पहले सार्वजनिक नहीं किए जाएं। अगर ऐसा किया गया तो स्विस सरकार आगे सहयोग नहीं करेगी। उन्होंने पूछा कि क्या गांधी जांच प्रक्रिया बाधित करने और काला धन रखने वालों की मदद करने के लिये यह मांग कर रहे हैं।




कैशलेस-बेसलेस कहकर मोदी का इस्तीफा मांगे जाने को लेकर उन्होंने कहा कि आज साफ हो गया है कि भ्रष्टाचार और भ्रष्ट लोगों के विरुद्ध कार्रवाई से किसको और क्यों तकलीफ हो रही है। भ्रष्ट लोग रोज पकड़े जा रहे हैं। राहुल बताएं कि विपक्ष को क्या सरकार की सख्ती से परेशानी हो रही है। प्रसाद ने कहा कि जहां तक संसद नहीं चलने देने की बात है तो वित्त मंत्री अरुण जेटली और स्वयं प्रधानमंत्री पक्ष रखने को तैयार थे, लेकिन विपक्ष ने बोलने तक नहीं दिया।

विपक्षी नेताओं के साझा संवाददाता सम्मेलन पर चुटकी लेते हुए प्रसाद ने कहा कि विपक्षी एकता का गुब्बारा फूट चुका है और जल्द ही कांग्रेस को उसकी सही हैसियत का पता चल जाएगा। उन्होंने कहा कि राहुल का फ्लॉप शो सबने देख लिया है। विपक्ष को एकजुट करने का दावा करने वाले गांधी इस संवाददाता सम्मेलन में 16 की बजाय केवल आठ दल जुटा सके। जल्द ही ये आठ दल चार रह जाएंगे और आखिर में अकेली कांग्रेस ही विलाप करने को रह जाएगी।