राजौरी गार्डन विधानसभा सीट पर भाजपा अकेले लड़ेगी चुनाव, अकाली दल को नहीं लेगी साथ!

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में मिली बंपर जीत के बाद भाजपा अकाली दल से दूरी बनाती नजर आने लगी है। राजौरी गार्डन विधानसभा का अकेले चुनाव लड़ने की मांग उठने लगी है। जानकारों की मानें तो बुधवार को पार्टी के सिख नेताओं ने एक बैठक की और शीर्ष नेताओं के सामने यह प्रस्ताव रखने का निर्णय लिया है कि पार्टी राजौरी गार्डन विधानसभा से अकेले चुनाव उतरे।




हालांकि यह सीट भाजपा गठबंधन के अकाली दल कोटे की है और 2015 में यहां से अकाली दल से मनजीत सिंह सिरसा चुनाव लड़े थे। इस बार अभी तक भाजपा नेता व दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में पूर्व मेयर रह चुके सुभाष आर्य व वर्तमान मेयर श्याम शर्मा टिकट मांग रहे हैं।

विधानसभा के लिए नौ अप्रैल को मतदान होना है। दरअसल 2015 में राजौरी गार्डन विधानसभा से आप के जरनैल सिंह चुनाव जीते थे, लेकिन उन्होंने पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले इस्तीफा दे दिया था। अब चुनाव आयोग से उप-चुनाव की तारीख घोषित कर दी है।




सूत्रों का कहना है कि पार्टी इस बार अपना उम्मीदवार लड़ाना चाहती है। बुधवार को भाजपा के कुछ सिख नेताओं बैठक की और निर्णय लिया कि वह पार्टी नेतृत्व के सामने मांग रखेंगे कि भाजपा राजौरी गार्डन से अपना उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे। हालांकि पार्टी ने बुधवार को अपने उम्मीदवार का नाम तय करने की बात कही थी, लेकिन स्थानीय कार्यकर्ताओं के इस मांग के चलते कोई निर्णय नहीं हो सका।

नामांकन की आखिरी तिथि 23 मार्च है। उम्मीद है कि पार्टी बृहस्पतिवार को उम्मीदवार का नाम तय कर लेगी।

Loading...