BJP ने हरियाणा में मानी हार, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने दिया इस्तीफा

subhash barala
BJP ने हरियाणा में मानी हार, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली। हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों के लिए गुरुवार को हो रही मतगणना में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच कांटे की टक्कर के बीच भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को दिल्ली बुलाया है। इसी बीच हरियाणा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला ने अपना इस्तीफा पार्टी हाईकमान को भेज दिया है। वह रुझानों में काफी पीछे चल रहे थे। उन्होंने पार्टी को बहुमत न मिलने और अपनी हार की जिम्मेदारी लेते हुए पद छोड़ दिया है।

Bjp Accepts Defeat In Haryana State President Subhash Barala Resigns :

जेजेपी ने कल बुलाई बैठक
जेजेपी अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला हरियाणा में किंगमेकर बन सकते हैं। जेजेपी कार्यकारणी की बैठक कल दिल्ली में बुलाई गई है। बैठक में पार्टी बीजेपी या कांग्रेस किसी एक को समर्थन देने पर फैसला कर सकती है। रुझानों में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही बहुमत के आंकड़े से दूर होती दिख रही है। ऐसे में बीजेपी और जेजेपी मिलकर सरकार बना सकती हैं। या फिर कांग्रेस अपने साथ जेजेपी और निर्दलीय विधायकों को लेकर बहुमत का जादुई आंकड़ा छू सकती है।

नई दिल्ली। हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों के लिए गुरुवार को हो रही मतगणना में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच कांटे की टक्कर के बीच भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को दिल्ली बुलाया है। इसी बीच हरियाणा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला ने अपना इस्तीफा पार्टी हाईकमान को भेज दिया है। वह रुझानों में काफी पीछे चल रहे थे। उन्होंने पार्टी को बहुमत न मिलने और अपनी हार की जिम्मेदारी लेते हुए पद छोड़ दिया है। जेजेपी ने कल बुलाई बैठक जेजेपी अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला हरियाणा में किंगमेकर बन सकते हैं। जेजेपी कार्यकारणी की बैठक कल दिल्ली में बुलाई गई है। बैठक में पार्टी बीजेपी या कांग्रेस किसी एक को समर्थन देने पर फैसला कर सकती है। रुझानों में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही बहुमत के आंकड़े से दूर होती दिख रही है। ऐसे में बीजेपी और जेजेपी मिलकर सरकार बना सकती हैं। या फिर कांग्रेस अपने साथ जेजेपी और निर्दलीय विधायकों को लेकर बहुमत का जादुई आंकड़ा छू सकती है।