यूपी में BJP का 100 दिनों का जंगलराज, CM योगी मना रहे जश्न: आज़म खान

लखनऊ। यूपी सरकार जहां एक तरह अपने 100 दिनों का कार्यकाल पूरा होने का जश्न मना रही है, यूपी के मुखिया योगी अधित्यनाथ मीडिया के समक्ष अपना रिपोर्ट कार्ड रख जनता को संदेश देते दिख रहे हैं वहीं विपक्ष के दिग्गज नेता इन 100 दिनों के कार्यकाल को आड़े हाथों ले रहें हैं। इसी क्रम में सपा के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री आजम खान ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है। बुधवार को सपा कार्यालय पर समर्थकों को संबोधित करते हुए आजम ने कहा कि भले ही मुख्यमंत्री ने अपने 100 दिनों के कार्यकाल का बखान कर रहें हैं लेकिन सच्चाई इसके बिल्कुल उलट है। उन्होंने कहा कि 100 दिनों में उत्तर प्रदेश में लूट, दुष्कर्म और हत्या सहित अन्य आपराधिक मामले बढ़े हैं।

आजम ने कहा, “प्रदेश में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गई है। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और वे बेखौफ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। मौजूदा समय में पूरे प्रदेश में लूट, डकैती, चोरी, दुष्कर्म, हत्या व अपहरण की वारदातें हो रही हैं, जिन्हें रोकने में भाजपा पूरी तरह से विफल साबित हुई है।”

{ यह भी पढ़ें:- यूपी के 2682 मदरसों की मान्यता पर लटकी तलवार }

आजम ने कहा, “मौजूदा सरकार ने चुनाव के समय किसानों का कर्ज माफ करने का वायदा किया था पर अब किसानों के सामने शर्ते रखी जा रही हैं। किसान पूरे प्रदेश में आंदोलन कर रहे हैं, जिससे वर्तमान सरकार की वादा खिलाफी साबित हो जाती है।” गड्ढामुक्त सड़क अभियान पर आजम ने कहा कि सरकार ने सड़कों को गड्ढामुक्त करने की बात कही थी। पर कुछ मुख्य सड़कों को छोड़ दें तो कोई भी सड़क गड्ढामुक्त नहीं हो सकी है।

भारतीय सेना पर आजम खान द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने कभी भी सेना का मनोबल नहीं तोड़ा। आजम ने कहा, “मैंने कभी सेना का मनोबल नहीं तोड़ा। हमने झारखंड मुक्ति मोर्चा की हथियार बंद महिलाओं के कृत्य के बारे में बयान दिया था। इसे बाद में भारतीय सेना को लेकर हमारे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया।”

{ यह भी पढ़ें:- संगीत सोम ने ताजमहल को बताया भारतीय संस्कृति पर धब्बा, ओवैसी ने किया पलटवार }

गौरतलब है कि बुधवार को आज़मा खान का एक वीडियो मीडिया में वायरल हुआ था जिसमे वे भारतीय सेना के बारे में विवादित बयान दे रहे हैं जिसके बाद मामला तूल पकड़ते देख पार्टी के दिग्गज नेताओं ने भी आजम से किनारा कर लिया है।