बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- पहले संविधान ठीक से पढ़ लें कमलनाथ, राज्यों को लागू करना ही पड़ेगा सीएए

KAILASH VIJAYVARGIYA
दिल्ली चुनाव: BJP की केजरीवाल से मांग- स्कूलों-मदरसों में जरूरी हो हनुमान चालीसा का पाठ

नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने नागरिकता कानून पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ पर बड़ा हमला बोला है। कमलनाथ के एमपी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू न करने को लेकर दिए गए बयान पर विजयवर्गीय ने कहा कि उन्हें पहले संविधान पढ़ लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि संसद के दोनों सदनों द्वारा पास करने के बाद सभी राज्य सीएए को लागू करने के लिए बाध्य हैं।

Bjp Leader Kailash Vijayvargiya Said First Read The Constitution Properly Kamal Nath States Will Have To Implement The Caa :

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कमलनाथ को पहले देश का संविधान ठीक से पढ़ लेना चाहिए। जैसे ही संसद किसी विधेयक को पास करती है और वह कानून बन जाता है तो सभी राज्य उसे संविधान के अनुच्छेद 252 के तहत लागू करने के लिए बाध्य होते हैं। भारत के संविधान का भाग 11, जिसमें अनुच्छेद 245 से अनुच्छेद 263 शामिल हैं, केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के बीच संबंधों को निर्धारित करता है।

भाजपा नेता ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि संवैधानिक पद पर बैठा व्यक्ति असंवैधानिक बातें कर रहा है। उन्होंने कहा कि राजनीति केवल एक चीज है। हालांकि कांगेस केवल अपनी सत्ता और वोट बैंक को लेकर चिंतित है। वह देश के बारे में नहीं सोच रहे हैं। भाजपा महासचिव ने कहा कि सीएए लोगों के कल्याण के लिए है। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि समझदार लोग सीएए का विरोध नहीं करेंगे। पिछले कुछ दिनों में विपक्ष ने जिस तरह से देश में शांति को बाधित करने की कोशिश की है, उससे निपटने के लिए हम लोगों की चिंताओं को भी संबोधित कर रहे हैं।

नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने नागरिकता कानून पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ पर बड़ा हमला बोला है। कमलनाथ के एमपी में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू न करने को लेकर दिए गए बयान पर विजयवर्गीय ने कहा कि उन्हें पहले संविधान पढ़ लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि संसद के दोनों सदनों द्वारा पास करने के बाद सभी राज्य सीएए को लागू करने के लिए बाध्य हैं। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कमलनाथ को पहले देश का संविधान ठीक से पढ़ लेना चाहिए। जैसे ही संसद किसी विधेयक को पास करती है और वह कानून बन जाता है तो सभी राज्य उसे संविधान के अनुच्छेद 252 के तहत लागू करने के लिए बाध्य होते हैं। भारत के संविधान का भाग 11, जिसमें अनुच्छेद 245 से अनुच्छेद 263 शामिल हैं, केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के बीच संबंधों को निर्धारित करता है। भाजपा नेता ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि संवैधानिक पद पर बैठा व्यक्ति असंवैधानिक बातें कर रहा है। उन्होंने कहा कि राजनीति केवल एक चीज है। हालांकि कांगेस केवल अपनी सत्ता और वोट बैंक को लेकर चिंतित है। वह देश के बारे में नहीं सोच रहे हैं। भाजपा महासचिव ने कहा कि सीएए लोगों के कल्याण के लिए है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि समझदार लोग सीएए का विरोध नहीं करेंगे। पिछले कुछ दिनों में विपक्ष ने जिस तरह से देश में शांति को बाधित करने की कोशिश की है, उससे निपटने के लिए हम लोगों की चिंताओं को भी संबोधित कर रहे हैं।