सरेआम लखनऊ में BJP नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की चाकू घोंपकर हत्या

सरेआम लखनऊ में BJP नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की चाकू घोंपकर हत्या
सरेआम लखनऊ में BJP नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की चाकू घोंपकर हत्या

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सोमवार रात भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM)के नेता की चाकू से गोद कर सरेआम हत्या कर दी गई। बगल में उनकी बाइक पड़ी थी। हत्या के अगले दिन मंगलवार को मामले में पुलिस की कार्यवाही से नारा परिजनों ने ट्रॉमा सेंटर के प्रवेश द्वार पर जमकर हंगामा किया। बिना आरोपितों की गिरफ्तारी के शव पोस्टमाॅर्टम के लिए भेजेने से इनकार कर दिया।

Bjp Leader Pratyush Mani Tripathi Murder In Lucknow :

25 नवंबर को हुआ था हमला

सरेआम BJYM नेता की हत्या से नाराज कार्यकर्ताओं ने किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज ट्रॉमा सेंटर में जमकर बवाल काटा। प्रदर्शनकारी लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी के इस्तीफे की मांग कर रहे थे। कार्यकर्ताओं की मांग थी कि BJYM नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी के परिवार को मुआवजे के तौर पर 50 लाख रुपया दिया जाए, साथ ही उनके हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। प्रदर्शनकारियों का दावा था कि 25 नवंबर को बदमाशों ने त्रिपाठी पर हमला किया था लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। साथ ही त्रिपाठी ने इसकी शिकायत एसएसपी नैथानी से भी की थी और सुरक्षा की मांग की थी।

पुलिस सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगालने में जुटी

प्रत्युष मणि त्रिपाठी बीजेपी युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश मंत्री थे। कुछ दिन पहले ही प्रत्युष मणि की किसी के साथ कहासुनी हो गई थी। उन्होंने इसकी लिखित सूचना थाने में दी थी। पुलिस हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए बादशाह नगर रेलवे स्टेशन के पास के सभी सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगालने में जुटी है।

विपक्षियों ने सरकार पर बोला हमला

इस मामले में विपक्षी दल समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का कहना है कि योगी आदित्यनाथ की सरकार में अपराधी बेखौफ हैं। जब सत्ताधारी दल के लोगों को अपराधी बेखौफ होकर निशाना बना रहे हैं तो भला आम आदमी कैसे सुरक्षित रह सकता है। वहीं बीजेपी का कहना है कि यह पुलिस का मामला है, जो भी आरोपी होंगे उन्हें जेल पहुंचाया जाएगा।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सोमवार रात भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM)के नेता की चाकू से गोद कर सरेआम हत्या कर दी गई। बगल में उनकी बाइक पड़ी थी। हत्या के अगले दिन मंगलवार को मामले में पुलिस की कार्यवाही से नारा परिजनों ने ट्रॉमा सेंटर के प्रवेश द्वार पर जमकर हंगामा किया। बिना आरोपितों की गिरफ्तारी के शव पोस्टमाॅर्टम के लिए भेजेने से इनकार कर दिया।

25 नवंबर को हुआ था हमला

सरेआम BJYM नेता की हत्या से नाराज कार्यकर्ताओं ने किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज ट्रॉमा सेंटर में जमकर बवाल काटा। प्रदर्शनकारी लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी के इस्तीफे की मांग कर रहे थे। कार्यकर्ताओं की मांग थी कि BJYM नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी के परिवार को मुआवजे के तौर पर 50 लाख रुपया दिया जाए, साथ ही उनके हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। प्रदर्शनकारियों का दावा था कि 25 नवंबर को बदमाशों ने त्रिपाठी पर हमला किया था लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। साथ ही त्रिपाठी ने इसकी शिकायत एसएसपी नैथानी से भी की थी और सुरक्षा की मांग की थी।पुलिस सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगालने में जुटीप्रत्युष मणि त्रिपाठी बीजेपी युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश मंत्री थे। कुछ दिन पहले ही प्रत्युष मणि की किसी के साथ कहासुनी हो गई थी। उन्होंने इसकी लिखित सूचना थाने में दी थी। पुलिस हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए बादशाह नगर रेलवे स्टेशन के पास के सभी सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगालने में जुटी है।विपक्षियों ने सरकार पर बोला हमलाइस मामले में विपक्षी दल समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का कहना है कि योगी आदित्यनाथ की सरकार में अपराधी बेखौफ हैं। जब सत्ताधारी दल के लोगों को अपराधी बेखौफ होकर निशाना बना रहे हैं तो भला आम आदमी कैसे सुरक्षित रह सकता है। वहीं बीजेपी का कहना है कि यह पुलिस का मामला है, जो भी आरोपी होंगे उन्हें जेल पहुंचाया जाएगा।