NRC वाले बयान पर बीजेपी नेताओं ने केजरीवाल पर शुरू की कानूनी कार्रवाई

manoj tiwari
दिल्ली चुनाव: मनोज तिवारी का दावा, अबकी बार 45 पार, खत्म होगा 21 साल का वनवास

दिल्ली। एनआरसी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा था कि अगर दिल्ली में एनआरसी लागू हुआ तो मनोज तिवारी सबसे पहले यहां से वापस जायेंगे। जिसके बाद से लगातार उनके खिलाफ ​बीजेपी के हमले जारी हैं। जहां कल बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने केजरीवाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था वहीं अब मनोज तिवारी ने भी कहा है कि वो अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे। दरअसल केजरीवाल ने हाल ही में कहा था कि ‘दिल्ली में एनआरसी लागू होगा तो सबसे पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को दिल्ली छोड़नी होगी’।

Bjp Leaders Start Legal Action On Kejriwal On Nrc Statement :

मनोज तिवारी का कहना है कि केजरीवाल ने शायद मूर्खो की फौज इकटटठा कर रखी है जो उन्हे अभी तक राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर ‘एनआरसी’ का मतलब नही समझ आया। एनआरसी विदेशी घुसपैठियों के लिए है, अरविन्द केजरीवाल ने देश के ना​गरिकों को ही घुसपैठिया बता दिया। मनोज तिवारी का कहना है कि देश के हर ना​गरिक को हक है कि वह कहीं भी जाकर रह सकता है। उन्होने केजरीवाल के इस बयान को संविधान के खिलाफ बताया।

मनोज तिवारी धीरे धीरे बीजेपी में फायर ब्रांड नेता के तौर पर उभरते जा रहे हैं, ऐसे कईै मौके आये जहां मनोज तिवारी ने कई मौकों पर कहा कि असम की तरह दिल्ली में भी एनआरसी को लागू किया जाना चाहिए। फिर क्या था इसी बयान को लेकर अरविन्द केजरीवाल भी बोल पड़े कि एनआरसी लागू होते ही मनोज तिवारी को ही सबसे पहले जाना होगा। यहीं से भाजपा और अरविन्द केजरीवाल के बीच घमासान शुरू हो गया।

भाजपा नेताओं का आरोप है कि अरविन्द केजरीवाल ने मनोज तिवारी की ही नही बल्कि सारे बिहारियों का अपमान किया है। बीजेपी नेताओं का कहना है कि अरविन्द केजरीवाल जानबूझकर सोशल मीडिया के माध्यम से झूठ प्रचारित कर रहे हैं साथ ही दिल्ली में रह रहे यूपी, बिहार वालों की भावनाओं को चोट पहुंचा रहे हैं। वहीं कपिल मिश्रा ने कहा कि दिल्ली में बैठे बांग्लादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों को बचाने के लिए अरविन्द केजरीवाल ऐसी अनपढ़ों जैसी बात कर रहे हैं । उनका कहना है कि जो देशद्रोहियों के साथ हैं वो एनआरसी के खिलाफ हैं।

 

दिल्ली। एनआरसी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा था कि अगर दिल्ली में एनआरसी लागू हुआ तो मनोज तिवारी सबसे पहले यहां से वापस जायेंगे। जिसके बाद से लगातार उनके खिलाफ ​बीजेपी के हमले जारी हैं। जहां कल बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने केजरीवाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था वहीं अब मनोज तिवारी ने भी कहा है कि वो अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे। दरअसल केजरीवाल ने हाल ही में कहा था कि 'दिल्ली में एनआरसी लागू होगा तो सबसे पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को दिल्ली छोड़नी होगी'। मनोज तिवारी का कहना है कि केजरीवाल ने शायद मूर्खो की फौज इकटटठा कर रखी है जो उन्हे अभी तक राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर 'एनआरसी' का मतलब नही समझ आया। एनआरसी विदेशी घुसपैठियों के लिए है, अरविन्द केजरीवाल ने देश के ना​गरिकों को ही घुसपैठिया बता दिया। मनोज तिवारी का कहना है कि देश के हर ना​गरिक को हक है कि वह कहीं भी जाकर रह सकता है। उन्होने केजरीवाल के इस बयान को संविधान के खिलाफ बताया। मनोज तिवारी धीरे धीरे बीजेपी में फायर ब्रांड नेता के तौर पर उभरते जा रहे हैं, ऐसे कईै मौके आये जहां मनोज तिवारी ने कई मौकों पर कहा कि असम की तरह दिल्ली में भी एनआरसी को लागू किया जाना चाहिए। फिर क्या था इसी बयान को लेकर अरविन्द केजरीवाल भी बोल पड़े कि एनआरसी लागू होते ही मनोज तिवारी को ही सबसे पहले जाना होगा। यहीं से भाजपा और अरविन्द केजरीवाल के बीच घमासान शुरू हो गया। भाजपा नेताओं का आरोप है कि अरविन्द केजरीवाल ने मनोज तिवारी की ही नही बल्कि सारे बिहारियों का अपमान किया है। बीजेपी नेताओं का कहना है कि अरविन्द केजरीवाल जानबूझकर सोशल मीडिया के माध्यम से झूठ प्रचारित कर रहे हैं साथ ही दिल्ली में रह रहे यूपी, बिहार वालों की भावनाओं को चोट पहुंचा रहे हैं। वहीं कपिल मिश्रा ने कहा कि दिल्ली में बैठे बांग्लादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों को बचाने के लिए अरविन्द केजरीवाल ऐसी अनपढ़ों जैसी बात कर रहे हैं । उनका कहना है कि जो देशद्रोहियों के साथ हैं वो एनआरसी के खिलाफ हैं।