BJP के ‘बैट्समैन’ विधायक आकाश विजयवर्गीय को मिली जमानत

akash
BJP के 'बैट्समैन' विधायक आकाश विजयवर्गीय को मिली जमानत

भोपाल। मध्यप्रदेश के इंदौर में निगम अफसर की बैट से पिटाई करने के मामले में आरोपी भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को शनिवार को जमानत मिल गई। आकाश विजयवर्गीय को 20-20 हजार के मुचलके पर जमानत दी गई है।

Bjp Mla Akash Vijayvargiya Case Special Court Bhopal Bail Hearing 2 :

भोपाल की विशेष अदालत ने कुल दो मामलों में गिरफ्तार बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय की जमानत अर्जी पर सुनवाई करते हुए ये आदेश दिया है। इंदौर जेल सुपरिंटेंडेंट अदिति चतुर्वेदी के मुताबिक, शाम तक जमानत के आदेश की हार्ड कॉपी नहीं मिली तो रविवार को रिहाई होगी।

आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और पहली बार विधायक बने आकाश विजयवर्गीय ने बीते बुधवार को नगर निगम के अधिकारी को सरेआम बुरी तरह पीट दिया था। नगर निगम के कर्मचारी अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चला रहे थे। इस दौरान उनके काम के बीच इंदौर के विधायक आकाश वहां पहुंचे।

बताया जाता है कि कर्मचारियों से विवाद के बीच उन्होंने आपा खो दिया और क्रिकेट बैट से ही अधिकारी को पीटना शुरू कर दिया। घटना का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद आकाश के अलावा 10 अन्य लोगों के खिलाफ भी आईपीसी की धारा 353, 294, 323, 506, 147,148 के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी।

26 जून से इंदौर जेल में बंद हैं आकाश

अफसर से मारपीट के केस में आकाश को 26 जून को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने उन्हें 11 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में इंदौर जेल भेज दिया था। इसके अगले दिन उन्होंने सत्र न्यायालय में जमानत के लिए अर्जी लगाई थी। यहां से केस एससी/एसटी कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया गया। गुरुवार को एससी/एसटी कोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी थी। इसके बाद आकाश के वकील ने भोपाल कोर्ट में याचिका दाखिल की।

आकाश ने निगमकर्मी को बैट से पीटा था

26 जून को निगम अधिकारी धीरेंद्र बायस टीम के साथ जर्जर मकान को ढहाने के लिए पहुंचे थे। इस दौरान आकाश वहां आए और टीम को बगैर कार्रवाई के लिए जाने के लिए कहा। लेकिन अधिकारियों ने कार्रवाई जारी रखी और आकाश ने बैट से अधिकारी की पिटाई की थी। शुक्रवार को बायस की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

भोपाल। मध्यप्रदेश के इंदौर में निगम अफसर की बैट से पिटाई करने के मामले में आरोपी भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को शनिवार को जमानत मिल गई। आकाश विजयवर्गीय को 20-20 हजार के मुचलके पर जमानत दी गई है। भोपाल की विशेष अदालत ने कुल दो मामलों में गिरफ्तार बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय की जमानत अर्जी पर सुनवाई करते हुए ये आदेश दिया है। इंदौर जेल सुपरिंटेंडेंट अदिति चतुर्वेदी के मुताबिक, शाम तक जमानत के आदेश की हार्ड कॉपी नहीं मिली तो रविवार को रिहाई होगी। आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और पहली बार विधायक बने आकाश विजयवर्गीय ने बीते बुधवार को नगर निगम के अधिकारी को सरेआम बुरी तरह पीट दिया था। नगर निगम के कर्मचारी अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चला रहे थे। इस दौरान उनके काम के बीच इंदौर के विधायक आकाश वहां पहुंचे। बताया जाता है कि कर्मचारियों से विवाद के बीच उन्होंने आपा खो दिया और क्रिकेट बैट से ही अधिकारी को पीटना शुरू कर दिया। घटना का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद आकाश के अलावा 10 अन्य लोगों के खिलाफ भी आईपीसी की धारा 353, 294, 323, 506, 147,148 के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। 26 जून से इंदौर जेल में बंद हैं आकाश अफसर से मारपीट के केस में आकाश को 26 जून को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने उन्हें 11 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में इंदौर जेल भेज दिया था। इसके अगले दिन उन्होंने सत्र न्यायालय में जमानत के लिए अर्जी लगाई थी। यहां से केस एससी/एसटी कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया गया। गुरुवार को एससी/एसटी कोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी थी। इसके बाद आकाश के वकील ने भोपाल कोर्ट में याचिका दाखिल की। आकाश ने निगमकर्मी को बैट से पीटा था 26 जून को निगम अधिकारी धीरेंद्र बायस टीम के साथ जर्जर मकान को ढहाने के लिए पहुंचे थे। इस दौरान आकाश वहां आए और टीम को बगैर कार्रवाई के लिए जाने के लिए कहा। लेकिन अधिकारियों ने कार्रवाई जारी रखी और आकाश ने बैट से अधिकारी की पिटाई की थी। शुक्रवार को बायस की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।