भाजपा विधायक इंस्पेक्टर से बोले- आरोपी को नहीं छोड़ा तो करा देंगे ट्रांसफर, ऑडियो वायरल

mla=dinesh-khatik
भाजपा विधायक इंस्पेक्टर से बोले- आरोपी को नहीं छोड़ा तो करा देंगे ट्रांसफर, ऑडियो वायरल

लखनऊ। सोशल मीडिया पर एक कथित ऑडियो तेजी से वायरल हो रहा है। ये ऑडियो उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले का बताया जा रहा है। यहां के हस्तिनापुर विधानसभा सीट से भाजपा विधायक दिनेश खटीक ने थाना मवाना के इंस्पेक्टर को फोन पर एक आरोपी को छोड़ने की बात कहते हुए ट्रांसफर करने की धमकी दे डाली। ऑडियो में विधायक धमकी देते सुने जा रहे हैं कि इंस्पेक्टर का ट्रांसफर अब बलिया कराया जाएगा।

Bjp Mla Dinesh Khatik Allegedly Threatens Police Inspector Over Phone :

विधायक दिनेश खटीक की धमकी के बाद इंस्पेक्टर बैकफुट पर आ गए और अभिलेखों में बदलाव कर आरोपी को छोड़ दिया। विधायक और इंस्पेक्टर के बीच हुई बातचीत की ऑडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी है। जब विधायक से इस मामले पर उनका पक्ष जानने की कोशिश की गयी तो उनका मोबाइल नंबर स्विच ऑफ मिला। वहीं इंस्पेक्टर इस मामले पर बोलने से बचते नजर आ रहे हैं।

ये है पूरा मामला-

बीते एक हफ्ते पहले मेरठ जिले के मवाना की एक महिला ने एक युवक के खिलाफ तहरीर दी थी कि उसके बेटे के साथ युवक ने गलत काम किया है। जिसमें धारा 377 बन रही थी, लेकिन आरोपी को पकड़ने के तुरंत बाद विधायक दिनेश खटीक का फोन इंस्पेक्टर मवाना मुनेंद्र पाल सिंह के पास पहुंचा और उन्होंने उसे बचाने की सिफारिश की। विधायक के कहने पर इंस्पेक्टर मवाना ने आरोपित को शाति भंग में दाखिल कर दिया और आरोपित को मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के लिए कहा। मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने से पहले ही विधायक का फिर से इंस्पेक्टर मवाना के पास फोन जाता है।

फोन पर विधायक धमकी देते हैं कि वह उसका ट्रांसफर बलिया करा देंगे। यदि बलिया में ट्रांसफर नहीं करा पाया तो वह राजनीति छोड़ देंगे। धमकी के बाद इंस्पेक्टर मवाना ने विधायक को कहा कि वह उन्हें छोड़ देगा लेकिन वह नाराज न हों। हैरत की बात यह है कि जिस आरोपी को धारा 151 में दाखिल कर दिया गया हो उसे थाने से कैसे छोड़ा जा सकता है। हालाकि इंस्पेक्टर का कहना है कि उन्होंने आरोपित को थाने से विधायक के कहने पर छोड़ दिया।

लखनऊ। सोशल मीडिया पर एक कथित ऑडियो तेजी से वायरल हो रहा है। ये ऑडियो उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले का बताया जा रहा है। यहां के हस्तिनापुर विधानसभा सीट से भाजपा विधायक दिनेश खटीक ने थाना मवाना के इंस्पेक्टर को फोन पर एक आरोपी को छोड़ने की बात कहते हुए ट्रांसफर करने की धमकी दे डाली। ऑडियो में विधायक धमकी देते सुने जा रहे हैं कि इंस्पेक्टर का ट्रांसफर अब बलिया कराया जाएगा। विधायक दिनेश खटीक की धमकी के बाद इंस्पेक्टर बैकफुट पर आ गए और अभिलेखों में बदलाव कर आरोपी को छोड़ दिया। विधायक और इंस्पेक्टर के बीच हुई बातचीत की ऑडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी है। जब विधायक से इस मामले पर उनका पक्ष जानने की कोशिश की गयी तो उनका मोबाइल नंबर स्विच ऑफ मिला। वहीं इंस्पेक्टर इस मामले पर बोलने से बचते नजर आ रहे हैं।

ये है पूरा मामला-

बीते एक हफ्ते पहले मेरठ जिले के मवाना की एक महिला ने एक युवक के खिलाफ तहरीर दी थी कि उसके बेटे के साथ युवक ने गलत काम किया है। जिसमें धारा 377 बन रही थी, लेकिन आरोपी को पकड़ने के तुरंत बाद विधायक दिनेश खटीक का फोन इंस्पेक्टर मवाना मुनेंद्र पाल सिंह के पास पहुंचा और उन्होंने उसे बचाने की सिफारिश की। विधायक के कहने पर इंस्पेक्टर मवाना ने आरोपित को शाति भंग में दाखिल कर दिया और आरोपित को मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के लिए कहा। मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने से पहले ही विधायक का फिर से इंस्पेक्टर मवाना के पास फोन जाता है। फोन पर विधायक धमकी देते हैं कि वह उसका ट्रांसफर बलिया करा देंगे। यदि बलिया में ट्रांसफर नहीं करा पाया तो वह राजनीति छोड़ देंगे। धमकी के बाद इंस्पेक्टर मवाना ने विधायक को कहा कि वह उन्हें छोड़ देगा लेकिन वह नाराज न हों। हैरत की बात यह है कि जिस आरोपी को धारा 151 में दाखिल कर दिया गया हो उसे थाने से कैसे छोड़ा जा सकता है। हालाकि इंस्पेक्टर का कहना है कि उन्होंने आरोपित को थाने से विधायक के कहने पर छोड़ दिया।