1. हिन्दी समाचार
  2. UP: कोरोना संकट में BJP विधायक ने CM फंड में दिए थे 25 लाख, अब मांगे वापस

UP: कोरोना संकट में BJP विधायक ने CM फंड में दिए थे 25 लाख, अब मांगे वापस

Bjp Mla Gave 25 Lakhs In Cm Fund In Corona Crisis Now Demands Back

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संकट को लेकर देश के सभी राज्यों में सांसदो व विधायकों ने अपनी निधि से पीएम व सीएम फंड में पैसे दिए थे। वहीं यूपी में भी सभी विधायकों ने क्षेत्र के लिए अपनी निधि से सीएम फंड में कोरोना से निपटने के लिए रकम दी थी, लेकिन उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने अपनी विधायक निधि से दिए 25 लाख रुपये वापस मांग लिए हें। इस संबंध में विधायक ने एक पत्र हरदोई जिला प्रशासन को लिखा है।

पढ़ें :- महराजगंज:जनता ने मौका दिया तो क्षेत्र का होगा समग्र विकास: रवींद्र जैन

कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले की गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने अपनी विधायक निधि से कोरोना फंड में 25 लाख रुपये दिए थे। अब वह इन पैसों को वापस मांग रहे हैं। इस संबंध में विधायक ने हरदोई जिला प्रशासन को एक पत्र लिखा है और कहा कि उनके दिए गए पैसों का सही इस्तेमाल नहीं हो रहा है, जिसके चलते उनकी विधायक निधि का पैसा वापस किया जाए।

विधायक श्याम प्रकाश ने आरोप लगाया कि बार-बार कहने पर भी प्रशासन द्वारा पैसों का कोई हिसाब भी नहीं दिया जा रहा। ऐसे में विधायक ने कहा कि उनके द्वारा पूर्व में निर्गत की विधायक निधि की राशि को तत्काल वापस उनकी निधि के खाते में भेजा जाए ताकि इसका इस्तेमाल जनहित के अन्य कार्यों में किया जा सके।

बता दें कि हरदोई जिले में सबसे पहले गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने कोरोना संकट के लिए अपनी विकास निधि से 25 लाख रुपये देने की घोषणा की थी। उन्होंने अपने निधि का प्रयोग विधानसभा क्षेत्र की जनता को कोरोना से बचाव के लिए इंतजामों पर खर्च करने की बात कही थी। लेकिन बाद में विधायक ने निधि से दिए गए 25 लाख रुपये से कोरोना से निपटने के लिए विभिन्न उपकरण व सामग्री खरीदने के संबंध में संशोधित पत्र भेजा था।

पढ़ें :- GOLD RATE: लगातार दूसरे दिन आई सोने चांदी की कीमतों में बड़ी गिरावट, जानिए आज का भाव

हालांकि, विधायक श्याम प्रकाश के द्वारा मांगी जा रही अपनी विधायक निधि की राशि को लेकर जिला प्रशासन असमंजस में है। माना जा रहा है कि विधायक निधि से 25 लाख रुपये अवमुक्त करने संबंधी पत्र पर इसका 60 फीसदी धन पहली किस्त के रूप में स्वास्थ्य विभाग को दिया जा चुका है, जिसकी वजह से अब प्रशासन कश्मकश में है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...