बीजेपी विधायक ने दिया विवादित बयान, कहा, अधिकारी, कर्मचारी सम्मान न दें तो जूते से मारिए

ramratan
बीजेपी विधायक ने दिया विवादित बयान, कहा, अधिकारी, कर्मचारी सम्मान न दें, तो जूते से मारिएबीजेपी विधायक ने दिया विवादित बयान, कहा, अधिकारी, कर्मचारी सम्मान न दें, तो जूते से मारिए

ललितपुर। उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले के सदर विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक रामरतन कुशवाहा का एक विवादित बयान सामने आया है। जिले में महरौनी कस्बे में एक अभिनन्दन समारोह का आयोजन किया गया था। यहां पहुंचे विधायक ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करना शुरू किया।

Bjp Mla Ramratan Kushwaha Gave The Controversial Statement :

इस दौरान उन्होंने विवादित बयान देते हुए कहा कि अगर अधिकारी, कर्मचारी सम्मान न दे तो उन्हें जूता मारिए। कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि बर्दास्त की भी एक हद होती है। विधायक ने कहा कि कुछ अधिकारी और कर्मचारी समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी की मानसिकता के हैं। जिन्हें सुधरने के लिए एक दो महीने का समय दिया जाता है।

उन्होंने राजस्व और पुलिस के कर्मचारियों को चेतावनी भरे लहजे में सतर्क रहने के लिए कहा। विधायक ने जब यह बयान तब दिया जब कार्यक्रम में प्रदेश सरकार के श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री मनोहर लाल पन्थ और नव निर्वाचित सांसद अनुराग शर्मा भी मौजूद थे।

विधायक रामरतन कुशवाहा ने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान कुछ अधिकारी पार्टी कार्यकर्ताओं को दूसरी पार्टी की सदस्यता लेने का दबावा बना रहे थे। इसके साथ कहा कि कार्यकताओं के सही बात को भी अधिकारी तवज्जो नहीं देते हैं। हालांकि विधायक के इस बयान से राज्यमंत्री मनोहर लाल पन्थ और सांसद अनुराग शर्मा ने किनारा कर लिया है।

ललितपुर। उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले के सदर विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक रामरतन कुशवाहा का एक विवादित बयान सामने आया है। जिले में महरौनी कस्बे में एक अभिनन्दन समारोह का आयोजन किया गया था। यहां पहुंचे विधायक ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करना शुरू किया। इस दौरान उन्होंने विवादित बयान देते हुए कहा कि अगर अधिकारी, कर्मचारी सम्मान न दे तो उन्हें जूता मारिए। कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि बर्दास्त की भी एक हद होती है। विधायक ने कहा कि कुछ अधिकारी और कर्मचारी समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी की मानसिकता के हैं। जिन्हें सुधरने के लिए एक दो महीने का समय दिया जाता है। उन्होंने राजस्व और पुलिस के कर्मचारियों को चेतावनी भरे लहजे में सतर्क रहने के लिए कहा। विधायक ने जब यह बयान तब दिया जब कार्यक्रम में प्रदेश सरकार के श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री मनोहर लाल पन्थ और नव निर्वाचित सांसद अनुराग शर्मा भी मौजूद थे। विधायक रामरतन कुशवाहा ने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान कुछ अधिकारी पार्टी कार्यकर्ताओं को दूसरी पार्टी की सदस्यता लेने का दबावा बना रहे थे। इसके साथ कहा कि कार्यकताओं के सही बात को भी अधिकारी तवज्जो नहीं देते हैं। हालांकि विधायक के इस बयान से राज्यमंत्री मनोहर लाल पन्थ और सांसद अनुराग शर्मा ने किनारा कर लिया है।