CAA के विरोध में बोले BJP MLA, बात होती है वसुधैव कुटुम्बकम की, देश को धर्म के नाम पर बांटा जा रहा

Narayan-Tripathi
CAA के विरोध में बोले BJP MLA, बात होती है वसुधैव कुटुम्बकम की, देश को धर्म के नाम पर बांटा जा रहा

भोपाल। वैसे तो जबसे सीएए बना है तभी से बीजेपी की विपक्षी पार्टियां इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। वहीं अब बीजेपी की तरफ से भी बगावत शुरू हो गयी है। मध्यप्रदेश के मैहर से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने नागरिकता संशोधन कानून का विरोध किया है। उन्होंने कहा है “धर्म के नाम पर देश का बंटवारा नहीं किया जाना चाहिए” उन्होने इस दौरान यह भी कहा कि लोग आधार कार्ड नहीं बना पा रहे, बाकी कागज कहां से लाएंगे।

Bjp Mla Said In Protest Against Caa The Country Is Being Divided In The Name Of Religion :

बीजेपी नेता ने कहा “या तो आप संविधान के साथ है या विरोध में है और यदि संविधान के हिसाब से नहीं चलना है तो संविधान को फाड़ कर फेंक देना चाहिए। मैं गांव से आता हूं और गांव में आज आधार कार्ड नहीं बन रहे तो बाकी कागज कहा से लाएंगे?” उन्होने कहा कि देश में गृह क्लेश के हालत हैं। आज गांव में लोग एक दूसरे की तरफ देख भी नही रहे। उन्होंने कहा कि वसुधैव कुटुम्बकम की बात होती है लेकिन धर्म के नाम बंटवारा किया जा रहा है ये गलत है।

बीजेपी विधायक जिस वक्त ये बयान दे रहे थे तो उनसे पूछा गया कि आप पार्टी लाइन से अलग हटकर बयान दे रहे हैं तो उन्होंने कहा कि ये मेरे दिल की आवाज है। आपको बता दें कि देश में अभी भी सीएए को लेकर विवाद बना हुआ है। देश की राजधानी दिल्ली में शाहीन बाग समेत 1 दर्जन से अधिक जगहों पर लोग इसके विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। यही नही देश के कई अन्य शहरों लखनऊ, पटना, हैदराबाद, मुंबई, सहित कई जगहों पर भी हिंसक प्रदर्शन हो चुके हैं और अभी ​भी विरोधों का सि​लसिला जारी है।

भोपाल। वैसे तो जबसे सीएए बना है तभी से बीजेपी की विपक्षी पार्टियां इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। वहीं अब बीजेपी की तरफ से भी बगावत शुरू हो गयी है। मध्यप्रदेश के मैहर से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने नागरिकता संशोधन कानून का विरोध किया है। उन्होंने कहा है "धर्म के नाम पर देश का बंटवारा नहीं किया जाना चाहिए" उन्होने इस दौरान यह भी कहा कि लोग आधार कार्ड नहीं बना पा रहे, बाकी कागज कहां से लाएंगे। बीजेपी नेता ने कहा "या तो आप संविधान के साथ है या विरोध में है और यदि संविधान के हिसाब से नहीं चलना है तो संविधान को फाड़ कर फेंक देना चाहिए। मैं गांव से आता हूं और गांव में आज आधार कार्ड नहीं बन रहे तो बाकी कागज कहा से लाएंगे?" उन्होने कहा कि देश में गृह क्लेश के हालत हैं। आज गांव में लोग एक दूसरे की तरफ देख भी नही रहे। उन्होंने कहा कि वसुधैव कुटुम्बकम की बात होती है लेकिन धर्म के नाम बंटवारा किया जा रहा है ये गलत है। बीजेपी विधायक जिस वक्त ये बयान दे रहे थे तो उनसे पूछा गया कि आप पार्टी लाइन से अलग हटकर बयान दे रहे हैं तो उन्होंने कहा कि ये मेरे दिल की आवाज है। आपको बता दें कि देश में अभी भी सीएए को लेकर विवाद बना हुआ है। देश की राजधानी दिल्ली में शाहीन बाग समेत 1 दर्जन से अधिक जगहों पर लोग इसके विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। यही नही देश के कई अन्य शहरों लखनऊ, पटना, हैदराबाद, मुंबई, सहित कई जगहों पर भी हिंसक प्रदर्शन हो चुके हैं और अभी ​भी विरोधों का सि​लसिला जारी है।