भाजपा सांसद का आरोप, सवाल पूछने पर भड़क जाते हैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

भाजपा सांसद का आरोप, सवाल पूछने पर भड़क जाते हैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

मुंबई। महाराष्ट्र से भाजपा सांसद नाना पटोले ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नियमित रूप से पार्टी सांसदों के साथ बैठक करते हैं लेकिन इन बैठकों में किसी तरह का सवाल उभाने पर वह गुस्सा जाते हैं। भाजपा सांसद ने यह आरोप एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत के दौरान लगाए हैं। नाना पटोले महाराष्ट्र के भंडारा गोन्डिया संसदीय सीट से सांसद हैं।

सांसद ने बताया कि एक बार प्रधानमंत्री के साथ हुई बैठक में उन्होंने ओबीसी मंत्रालय और महाराष्ट्र में किसानों की आत्महत्या की घटनाओं की ओर उनका ध्यान खींचने का प्रयास करते हुए हरित कर को बढ़ाने और कृषि के क्षेत्र में केन्द्र सरकार के अनुदान को बढ़ाने का सुझाव रखा था। जिस पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री उन्हें चुप रहने और पार्टी के मेनीफेस्टो के हिसाब से किसानों के लिए चलाई जाने वाली योजनाओं के बारे में जानकारी करने को कहा गया।

{ यह भी पढ़ें:- नोटबंदी पीएम मोदी का साहसिक कदम: जेमी दीमोन }

सांसद नाना पटोले और प्रधानमंत्री मोदी के बीच हुई इस बातचीत की चर्चा पहले भी सुर्खियों में रह चुकी है। पार्टी के ही सूत्रों के माध्यम से यह बात सामने आई थी कि पटोले ने प्रधानमंत्री के सामने अपने सुझाव रखे थे जिन्हें प्रधानमंत्री ने ध्यान से सुना था। लेकिन पटोले ने इस घटना को दूसरे नजरिए से मीडिया के सामने पेश किया है।

जब पटोले से मंत्री बनने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री के मंत्रिमंडल में हर सदस्य में एक तरह का डर है। हर मंत्री के भीतर अपनी पोजीशन को लेकर एक डर है, कि पता नहीं कब किसे हटा दिया जाए। इसलिए वह मंत्री पद के लिए दावेदारी नहीं चाहते।

{ यह भी पढ़ें:- मुश्किल काम मोदी नहीं करेगा तो कौन करेगा: पीएम मोदी }

इसके साथ ही पटोले ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की स्थिति के बारे में अपने विचार रखते हुए कहा कि फडणवीस केन्द्र में भाजपा की सरकार होने के बावजूद महाराष्ट्र के लिए केन्द्र सरकार से संभव मदद नहीं ले पा रहे हैं। इतना ही नहीं फडनवीस ने संसद सत्र से पहले पार्टी के सांसदों की बैठक करने की तैयारी की थी लेकिन दिल्ली से आए फोन के बाद बैठक निरस्त कर दी गई। यानी वह सूबे के मुख्यमंत्री होते हुए भी अपनी मर्जी से अपने प्रदेश के ही सांसदों के साथ बैठक नहीं कर सकते।