बीजेपी तुष्टिकरण, वोटबैंक और ऊंचनीच की राजनीति नहीं करती: ​अमित शाह

कारूकुट्टी। केरल के कारूकुट्टी में सोमवार को भारतीय धर्म जन सेवा पार्टी (बीडीजेएस) के वार्षिक समारोह में शामिल होने पहुंचे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उनकी पार्टी तुष्टिकरण, वोटबैंक और ऊंचनीच की राजनीति नहीं करती है। उन्होनें भरोसा है कि केरल में एनडीए गठबंधन एक दिन बहुमत की स्थिति में आएगा।




अमित शाह ने केरल की सत्तारूढ़ एलडीएफ पर हमलावर होते हुए कहा कि एलडीएफ की विचारधारा हिंसा से प्रभावित है। केरल में एनडीए के कार्यकर्ताओं पर जितने हमले होंगे उसका जनाधार उतना ही मजबूत होगा। केरल की गत 30 वर्षों में जिस तरह की स्थितियां पैदा हुईं हैं उसकी मुख्य वजह एलडीएफ और यूडीएफ का शासन काल रहा है। बीते सालों में केरल की संस्कृति, सामाजिक सुधार का इतिहास और परंपराएं खतरे में पड़ गईं हैं।




बीडीजेएस के प्रथम स्थापना दिवस पर पार्टी की विचारधारा के मूल सूत्रधार श्री नरायण गुरू द्वारा दक्षिण भारत के भीतर किए गए सामाजिक सुधार को लेकर किए गए प्रयासों की प्रशंसा करते हुए शाह ने कहा कि वह और बीजेपी पार्टी के गठन के पूर्व से ही नरायण गुरू के आदर्शों को पसंद करते आए हैं। यही वजह रही जब बीडीजेएस ने एक पार्टी का रूप में पहचान बनाई तो बीजेपी ने उसके साथ गठबंधन की पहल की। एक साल जैसे कम समय में ही बीडीजेएस ने केरल की राजनीति में जनता के बीच अपनी मजबूत पकड़ बना ली है।




उन्होंने हाल ही में केरल में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजों की ओर इशारा करते हुए कहा कि एनडीए गठबंधन ने संकेत दे दिया हैै। आने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनावों में एनडीए गठबंधन केरल में जीत हासिल करके दिखाएगी।

इसके साथ ही केन्द्र में बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की उपलब्धियां गिनवाते हुए उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की सरकार ने ​बीते ढ़ाई साल में कई उपलब्धियां हासिल की हैं। इनमें भी सबसे बड़ी उपलब्धी ये है कि इस सरकार पर आजतक भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा है।




उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार अपनी राजनीति में रक्षा नीति और विदेश नीति दोनों को पर अलग—अलग तरह से काम कर रही है। देश की सीमाओं की सुरक्षा करना सरकार की प्राथमिकता है। पीएम मोदी ने अपनी विदेश नीति और रक्षा नीति के दम पर दुनिया के सामने भारत की छवि को बदल कर रख दिया है।