विधानसभा उपचुनाव: उत्तर प्रदेश में भाजपा पदाधिकारी अपने रिश्तेदारों का न दें टिकट

jp nadda
विधानसभा उपचुनाव: उत्तर प्रदेश में भाजपा पदाधिकारी अपने रिश्तेदारों का न दें टिकट

नई दिल्ली। भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा है कि मंत्री, विधायक, सांसद व जिम्मेदार पदों पर बैठे पदाधिकारी अपना आचरण सुधार लें। साथ ही कहा कि उपचुनावों में सभी 12 सीटों को जीतने का लक्ष्य लेकर चलें। जेपी नड्डा कहा कि भाजपा पदाधिकारियों के रिश्तेदारों को किसी भी कीमत पर टिकट नहीं दिया जाए। चुनाव की रणनीति के बारे में बात करते हुए उन्होने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन से टूटने से अब जीत की राह आसान हो गई है। उन्होने सभी को आश्वस्त किया कि 2022 में दोबारा भाजपा सरकार ही आएगी।

Bjp Office Bearers Do Not Give Tickets To Their Relatives In Uttar Pradesh :

भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार भाजपा मुख्यालय में नड्डा शनिवार को अपने स्वागत कार्यक्रम के बाद भाजपा के प्रदेश व क्षेत्रीय पदाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इस कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्य नाथ, प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल और दोनों उपमुख्यमंत्री भी थे। उन्होने कहा कि प्रदेश में पार्टी का संगठन काफी मजबूत है। इसी का नतीजा है कि सपा-बसपा गठबंधन होने के बावजूद हमें 80 में से 64 सीटें मिलीं।

इसके बाद कोर कमेटी की बैठक में जे.पी.नड्डा ने साफ कहा कि विधायक से सांसद बनने वाले परिजनों को किसी सूरत में टिकट न दिए जाएं। केवल जिताऊ उम्मीदवार को ही मैदान में उतारना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन मंत्रियों और पदाधिकारियों को उपचुनाव की 12 सीटों को जिताने की जिम्मेदारी दी गई है, वे अपनी जिम्मेदारी निभाने में कोई कोताही न करें। सरकार के ‘बड़ों’ को यह सुनिश्चत करना चाहिए। नड्डा ने कहा कि प्रत्याशियों के चयन पर उनकी भी नजर रहेगी।

नई दिल्ली। भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा है कि मंत्री, विधायक, सांसद व जिम्मेदार पदों पर बैठे पदाधिकारी अपना आचरण सुधार लें। साथ ही कहा कि उपचुनावों में सभी 12 सीटों को जीतने का लक्ष्य लेकर चलें। जेपी नड्डा कहा कि भाजपा पदाधिकारियों के रिश्तेदारों को किसी भी कीमत पर टिकट नहीं दिया जाए। चुनाव की रणनीति के बारे में बात करते हुए उन्होने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन से टूटने से अब जीत की राह आसान हो गई है। उन्होने सभी को आश्वस्त किया कि 2022 में दोबारा भाजपा सरकार ही आएगी। भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार भाजपा मुख्यालय में नड्डा शनिवार को अपने स्वागत कार्यक्रम के बाद भाजपा के प्रदेश व क्षेत्रीय पदाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इस कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्य नाथ, प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल और दोनों उपमुख्यमंत्री भी थे। उन्होने कहा कि प्रदेश में पार्टी का संगठन काफी मजबूत है। इसी का नतीजा है कि सपा-बसपा गठबंधन होने के बावजूद हमें 80 में से 64 सीटें मिलीं। इसके बाद कोर कमेटी की बैठक में जे.पी.नड्डा ने साफ कहा कि विधायक से सांसद बनने वाले परिजनों को किसी सूरत में टिकट न दिए जाएं। केवल जिताऊ उम्मीदवार को ही मैदान में उतारना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन मंत्रियों और पदाधिकारियों को उपचुनाव की 12 सीटों को जिताने की जिम्मेदारी दी गई है, वे अपनी जिम्मेदारी निभाने में कोई कोताही न करें। सरकार के 'बड़ों' को यह सुनिश्चत करना चाहिए। नड्डा ने कहा कि प्रत्याशियों के चयन पर उनकी भी नजर रहेगी।