1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. पत्रकार अर्नब की गिरफ्तारी के बाद भाजपा ने आपतकाल के दिनों को किया याद

पत्रकार अर्नब की गिरफ्तारी के बाद भाजपा ने आपतकाल के दिनों को किया याद

Bjp Remembers Emergency Days After Journalist Arnabs Arrest

By शिव मौर्या 
Updated Date

मुंबई। रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वाती को बुधवार सुबह आत्महत्या के एक मामले में गिरफ्तार किया गया। अर्नब की गिरफ्तारी के बाद राजनेताओं ने आपातकाल के दिनों को याद किया है। इसके साथ ही इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला बताया है। वहीं, शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि अर्नब गोस्वामी पर कार्रवाई बदले की भावना से नहीं की गयी है।

पढ़ें :- सीएम ममता बनर्जी का भाजपा पर हमला, कहा-कट्टरपंथी लोगों की हिम्मत कैसे हुई मुझे चिढ़ाने की

पढ़ें :- 'जय श्रीराम' के नारों से ममता को चिढ़ना नहीं चाहिए, उल्टे उनके सुर में सुर मिलातीं तो दांव उलटा पड़ जाता : शिवसेना

गौरतलब है कि हाल के दिनों में अर्नब ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को निशाने पर लिया है। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गोस्वामी की हिरासत को प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला बताया है। केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘हम महाराष्ट्र में प्रेस स्वतंत्रता पर हमले की निंदा करते हैं। यह प्रेस के साथ व्यवहार करने का तरीका नहीं है।

यह हमें उन आपातकालीन दिनों की याद दिलाता है जब प्रेस के साथ इस तरह से व्यवहार किया गया था।’ इसके साथ ही पीयूष गोयल ने भी रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक की गिरफ्तारी की कड़ी निंदा की है। उन्होंने हा कि यह फासीवादी कदम अघोषित आपातकाल का संकेत है। पत्रकार अर्नब गोस्वामी पर हमला करना सत्ता के दुरुपयोग का एक उदाहरण है। हम सभी को भारत के लोकतंत्र पर इस हमले के खिलाफ खड़ा होना चाहिए।

पढ़ें :- भाजपा नेता ने ममता बनर्जी को भेजी रामायण की पुस्तक, कहा-पढ़िए, आपको सद्बुद्धि आएगी

जो लोग अर्नब के साथ नहीं खड़े, वो फासीवाद के समर्थक: स्मृति ईरानी
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इस कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘स्वतंत्र प्रेस में जो लोग आज अर्नब के समर्थन में नहीं खड़े हैं, वे फासीवाद के समर्थन में हैं। आप उसे पसंद नहीं कर सकते हैं, आप उसे स्वीकार नहीं कर सकते हैं, आप उसके अस्तित्व को तुच्छ समझ सकते हैं, लेकिन अगर आप चुप रहते हैं तो आप दमन का समर्थन करते हैं।’

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...