सबरीमाला मंदिर: बीजेपी नेता का ऑडियो वायरल, कहा- पार्टी के लिए है सुनहरा मौका

सबरीमाला मंदिर: बीजेपी नेता का ऑडियो वायरल, कहा- पार्टी के लिए है सुनहरा मौका
सबरीमाला मंदिर: बीजेपी नेता का ऑडियो वायरल, कहा- पार्टी के लिए है सुनहरा मौका

केरल। केरल बीजेपी अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई एक नई मुसीबत में फंस गए हैं। वहीं भारतीय जनता पार्टी के नेता मंदिर विवाद को एक सुनहरे मौके की तरह देखते हैं। राज्य के बीजेपी अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई के इस कथित बयान से हड़कंप मच गया है। दरअसल, श्रीधरन पिल्लई का एक कथित ऑडियो वायरल हो रहा है।

Bjp S Audio Clip Viral On Sabarimala Temple Golden Opportunity For Party :

बताया जा रहा है कि पिछले दिनों पिल्लई ने कोझिकोड़ में युवा मोर्चा को संबोधित किया था और यह ऑडियो उसी कार्यक्रम का है। बीजेपी नेता कथित तौर पर कह रहे हैं कि मुख्य पुजारी कुंडारारु राजीवारु मंदिर के द्वार बंद करने को लेकर थोड़े पसोपेश में थे। उन्हें कोर्ट की अवमानना का डर था लेकिन उनसे (पिल्लई से) बात करने के बाद उन्होंने मंदिर का गेट बंद करने का फैसला किया।

पिल्लै की सफाई

हालांकि, बीजेपी अध्यक्ष और केरल हाई कोर्ट में वकालत करने वाले अधिवक्ता पिल्लै ने कहा कि पुजारी ने कानूनी राय लेने के लिए उन्हें बुलाया था और इस मसले पर उन्होंने कानूनी राय दी थी।

बता दें कि भगवान अयप्पा मंदिर में रजस्वला (10-50 साल) महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के बीच, मुख्य पुजारी कन्दारारू राजीवरू ने 19 अक्टूबर को धमकी दी थी कि अगर पुलिस सुरक्षा प्राप्त रजस्वला आयुवर्ग की दो महिलाओं को मंदिर परिसर तक जाने की अनुमति मिली तो वह गर्भगृह बंद कर देंगे। इसके बाद पुलिस इन महिलाओं को सुरक्षा में वापस ले गई थी।

मुख्य पुजारी ने क्या कहा

बीजेपी प्रदेश के बयान पर जब विवाद हुआ तो सबरीमाला मंदिर के मुख्य पुजारी कन्दारारू राजीवरू ने इस पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि मंदिर से जुड़े किसी मसले पर भी श्रीधरन पिल्लै से उनकी चर्चा नहीं हुई।

केरल। केरल बीजेपी अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई एक नई मुसीबत में फंस गए हैं। वहीं भारतीय जनता पार्टी के नेता मंदिर विवाद को एक सुनहरे मौके की तरह देखते हैं। राज्य के बीजेपी अध्यक्ष पीएस श्रीधरन पिल्लई के इस कथित बयान से हड़कंप मच गया है। दरअसल, श्रीधरन पिल्लई का एक कथित ऑडियो वायरल हो रहा है।बताया जा रहा है कि पिछले दिनों पिल्लई ने कोझिकोड़ में युवा मोर्चा को संबोधित किया था और यह ऑडियो उसी कार्यक्रम का है। बीजेपी नेता कथित तौर पर कह रहे हैं कि मुख्य पुजारी कुंडारारु राजीवारु मंदिर के द्वार बंद करने को लेकर थोड़े पसोपेश में थे। उन्हें कोर्ट की अवमानना का डर था लेकिन उनसे (पिल्लई से) बात करने के बाद उन्होंने मंदिर का गेट बंद करने का फैसला किया।

पिल्लै की सफाई

हालांकि, बीजेपी अध्यक्ष और केरल हाई कोर्ट में वकालत करने वाले अधिवक्ता पिल्लै ने कहा कि पुजारी ने कानूनी राय लेने के लिए उन्हें बुलाया था और इस मसले पर उन्होंने कानूनी राय दी थी।बता दें कि भगवान अयप्पा मंदिर में रजस्वला (10-50 साल) महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के बीच, मुख्य पुजारी कन्दारारू राजीवरू ने 19 अक्टूबर को धमकी दी थी कि अगर पुलिस सुरक्षा प्राप्त रजस्वला आयुवर्ग की दो महिलाओं को मंदिर परिसर तक जाने की अनुमति मिली तो वह गर्भगृह बंद कर देंगे। इसके बाद पुलिस इन महिलाओं को सुरक्षा में वापस ले गई थी।

मुख्य पुजारी ने क्या कहा

बीजेपी प्रदेश के बयान पर जब विवाद हुआ तो सबरीमाला मंदिर के मुख्य पुजारी कन्दारारू राजीवरू ने इस पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि मंदिर से जुड़े किसी मसले पर भी श्रीधरन पिल्लै से उनकी चर्चा नहीं हुई।