शिवसेना से टकराव के बाद महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ेगी बीजेपी, अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को दिए संकेत

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार के खिलाफ हाल ही में पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव में शिवसेना के खुलकर बीजेपी के समर्थन में न आने का मामला गरमाने लगा है। इससे नाराज भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने महाराष्ट्र में गठबंधन को तोड़ अकेले चुनाव लड़ने का फैसला लगभग ले लिया है। उन्होने पार्टी कार्यकर्ताओं को इसके लिए संकेत भी दे दिए है।

Bjp Shivsena Alleince In Maharastra May Be Cancle Amit Shah Give Indications :

बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव से एक दिन पहले अमित शाह ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को फोन किया था। उसके बाद संभावना जताई जा रही थी कि शिवसेना सरकार को समर्थन देगी, लेकिन इसके विपरीत शिवसेना ने अविश्वास प्रस्ताव से दूरी बनाकर कहीं न कहीं भाजपा को ठेंगा दिखाया था। इसको लेकर अमित शाह काफी नाराज बताए जा रहे है। इसी नाराजगी के चलते उन्होने महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ने का मन बनाया है।

बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शिवसेना के बर्ताव से नाराज अमित शाह ने आज मुंबई में महाराष्ट्र बीजेपी के नेताओं से कहा कि जिस तरह बीते कुछ समय से शिव सेना का व्यवहार रहा है, ख़ासकर अविश्वास प्रस्ताव में अनुपस्थिति, उसके बाद हमें महाराष्ट्र में अकेला चुनाव लड़ना पड़ सकता है। उन्होने कार्यकर्ताओं से कहा कि सभी 48 लोकसभा सीटों पर वो लोग पूरी तरह से तैयारी कर लें।

महाराष्ट्र में बीजेपी का नेतृत्व से पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि जल्द से जल्द सभी 48 लोकसभा सीटों पर प्रभारियों की नियुक्ति की जाए। बता दें कि शिवसेना पहले ही घोषणा कर चुकी है कि 2019 का चुनाव वो अकेले ही लड़ेगी। इसी के चलते अविश्वास प्रस्ताव से ठीक पहले शिवसेना ने मोदी सरकार को समर्थन नहीं करने का फैसला किया था। पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा था कि शिवसेना अविश्वास प्रस्ताव का बहिष्कार करेगी।

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार के खिलाफ हाल ही में पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव में शिवसेना के खुलकर बीजेपी के समर्थन में न आने का मामला गरमाने लगा है। इससे नाराज भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने महाराष्ट्र में गठबंधन को तोड़ अकेले चुनाव लड़ने का फैसला लगभग ले लिया है। उन्होने पार्टी कार्यकर्ताओं को इसके लिए संकेत भी दे दिए है। बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव से एक दिन पहले अमित शाह ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को फोन किया था। उसके बाद संभावना जताई जा रही थी कि शिवसेना सरकार को समर्थन देगी, लेकिन इसके विपरीत शिवसेना ने अविश्वास प्रस्ताव से दूरी बनाकर कहीं न कहीं भाजपा को ठेंगा दिखाया था। इसको लेकर अमित शाह काफी नाराज बताए जा रहे है। इसी नाराजगी के चलते उन्होने महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ने का मन बनाया है। बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शिवसेना के बर्ताव से नाराज अमित शाह ने आज मुंबई में महाराष्ट्र बीजेपी के नेताओं से कहा कि जिस तरह बीते कुछ समय से शिव सेना का व्यवहार रहा है, ख़ासकर अविश्वास प्रस्ताव में अनुपस्थिति, उसके बाद हमें महाराष्ट्र में अकेला चुनाव लड़ना पड़ सकता है। उन्होने कार्यकर्ताओं से कहा कि सभी 48 लोकसभा सीटों पर वो लोग पूरी तरह से तैयारी कर लें। महाराष्ट्र में बीजेपी का नेतृत्व से पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि जल्द से जल्द सभी 48 लोकसभा सीटों पर प्रभारियों की नियुक्ति की जाए। बता दें कि शिवसेना पहले ही घोषणा कर चुकी है कि 2019 का चुनाव वो अकेले ही लड़ेगी। इसी के चलते अविश्वास प्रस्ताव से ठीक पहले शिवसेना ने मोदी सरकार को समर्थन नहीं करने का फैसला किया था। पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा था कि शिवसेना अविश्वास प्रस्ताव का बहिष्कार करेगी।